तुम सरहद के वीर सिपाही हो ….. भूपेन्द्र कुमार दवे

 तुम कर्मठ हो, बलशाली होतुम सरहद के वीर सिपाही हो तुम पुण्य धर्म के अनुयायी होतुम ही सच्चे भारतवासी होतुमने वेदों से जीना सीखा हैसच्चाई के बल चलना सीखा हैतुमने गीता का पथ अपनाना सीखा हैतुम सच्चेे प्यारे हिन्दुस्थानी होतुम ही सच्चे भारतवासी हो। तुमने सूर्य उदित होते देखा हैउसकी गरिमा को बढ़ते देखा हैगंगा में वही अवतरित होते देखा हैतुम इन प्रखर किरण के साथी होतुम ही सच्चे भारतवासी हो। जंजीरें तुमने खुलती देखी हैतुमने आजादी आती देखी हैखुद कुछ कर सकने की चाहत भी देखी हैतुम कर्मठ हो, बलशाली होतुम ही सच्चे भारतवासी हो। तुमने जिस माँ का आँचल पाया हैउसमें ममता का अद्भुत साया हैतुमने करुणा  में उपजा जीवन पाया हैतुम श्रद्धा की उज्वल की बाती होतुम ही सच्चे भारतवासी हो। अपने अंतः बापू उपजाया हैसत्य, अहिंसा का पथ अपनाया हैपर रण में तुमने हरदम शौर्य दिखाया हैतुम सरहद की शान निराली होतुम ही सच्चे भारतवासी हो। राष्ट्रध्वज तुमसे ही लहराया हैदुश्मन तुमसे डरता कतराता हैतुमने सबक शौर्य का सबको सिखलाया हैतुम हुँकार जन जन की वाणी होतुम ही सच्चे भारतवासी हो। तुम कर्मठ हो, बलशाली होतुम सरहद के वीर सिपाही होतुम ही सच्चे भारतवासी हो।….. भूपेन्द्र कुमार दवे00000

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

Leave a Reply