महा पंडित – बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा – बिन्दु

अपने मन के रावण मारो, इतना तो जरूरी हैदहन करते तुम रावण को, क्या तेरा मजबूरी है।खूब जश्न मनाते हो तुम, खूब दिखावा करते होरावण के पुतले जलाके, अपने को शेर समझते हो।एक रावण को जला दिये, तो क्या रावण मर जायेगाअपने भीतर के दानव मारो, मानव तुम बन जायेगा।हरण किया सीता को उसने, मर्यादा के साथ रहामुक्ति इसी में थी रावण की, वादा जिसके साथ रहा।महा पंड़ित ज्ञानी था वह, चारो वेद का ज्ञाता थाभूत भविष्य वर्तमान जानता, शिव के गुण गाता था।देवता थे वश में उसके, वश में सारी दुनियाँ थीसोने की लंका थी उसकी , अलग थी उसकी खूबियाँ।शनि देव झाडू करते थे, थी ये उनकी मजबूरियाँअपने ही गर्दन काट वह, दस बार शीष चढ़ाया थाऐसे शिव शंकर को उसने, वश अपने कर डाला था।बड़ी घोर तपस्या से उसने, मन वांक्षित फल पाया थामाया ममता लोभ अंहकार, क्रोध को ललकारा था।ऋषि मुनियों के संचित रज से, घड़ा एक भर डाला थालंका से घट लाकर उसने, मिथिला में गड़ डाला था।हाहाकार आकाल मची, शिव शंकर सपने में आयेजनक राजा हल सोने का ले , अपने हाथ चलाये।चलते चलते अटक गयी हल, घट बीच में जब आयाझमाझम वारिस की बूंदे, घनघोर घटा जब छाया।खुशियों से झूम गये जब, सीता को जनक ने देखाचारो तरफ छाई खुशहाली, प्रजा भी उसे निरेखा।त्राहि माम करती प्रजा को, जान में जान है आई।राजा जनक को संतान सुख, सीता से ही मिल पाई।ऋषि मुनियों की बेटी थी वह, वेद ऋचा विभूति थीरावण के मुक्ति कारक थी, जनक दुलारी अभिरूचि थी।मन में सोचा था रावण, स्वर्ग में सीढ़ी लगा देंगेइन नदियों को दूध बना, पानी में आग लगा देंगे।कर सकता था रावण ऐसा, बड़ी बात नहीं थी उसकीपर विधना को मंजूर कहाँ था, दुनियाँ बनी है जिसकी।सुर्पनखा की नाक कटी, तब देख न पाये इस हाल मेंबस राम से मुक्ति पाना था, जो उलझ गये इस जाल में।

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

Leave a Reply