भारत की छटा – डी के निवातिया

भारत की छटा मेरे भारत में जनता की, रीत बड़ी निराली है,जो दिल को बहला दे ये उसकी ही सवाली हैदिन को रात कहने वालो की ये भरते हामी हैयहाँ पर ऐसे भक्तों की भीड़ बड़ी ही भारी हैसत्य-अहिंसा और प्रेम से यहां सरोकार किसे हैसुनी-सुनाई को हकीकत में बदलने के पुजारी है !!अपनी पसंद के नेता चुन हम बनते बड़े दीवाने -२मालूल है करतूत सभी की, फिर भी अच्छा मानेदेखकर बुराईयां उनकी, हम मौन बन रह जाते हैअंधेभक्तो की सूची के फिर सरगना बन जाते हैपुरखो की शिक्षा शायद अब काम आई हैतभी तो प्रेम से मीठा बोल नीति अपनाई हैगुंडों को मोहक वाणी से जनता भरमाई हैइस अदा मैं फँसकर सदियों से जान गवाई हैक्या कहे अनपढ़ लोगो की यंहा तो,पढ़े लिखे लोगो ने भी बुद्धि गवाई हैबन कर अंधे भक्त अंगूठा टेको केखुद अपने हाथ अपनी लुटिया डुबाई हैफिर भी देखो यंहा कितनी समझदारी हैमिलते है दोस्तों की तरह एक दूजे सेपर दिलो में सबने दूजे से नफरत पाली हैक्योकि यंहा अंधे भक्तो की भीड़ भारी हैइसीलिए मई कहता हु मेरे दोस्तों की ,मेरे भारत की छटा बड़ी निराली है – २ !! !! डी के निवातिया !!

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

14 Comments

  1. Rajeev Gupta Rajeev Gupta 29/08/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 26/09/2018
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 30/08/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 26/09/2018
  3. ANU MAHESHWARI Anu Maheshwari 30/08/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 26/09/2018
  4. C.M. Sharma C.M. Sharma 31/08/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 26/09/2018
  5. rakesh kumar rakesh kumar 31/08/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 26/09/2018
  6. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 01/09/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 26/09/2018
  7. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 03/09/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 26/09/2018

Leave a Reply