मिलन कर लो – शिशिर मधुकर

सनम कुछ ही बरस बाकी हैं अब ये रूप ढलने मेंमिलन कर लो बिता दो ज़िन्दगी या हाथ मलने मेंएक क़दम आज तुम भर के सुकू दिल में बैठा लोकभी ना चैन आएगा तुम को घुट घुट के जलने मेंएक तरफ़ राह कांटों की एक तरफ़ फूल बिखरे हैंछिलें ना अब चरण तेरे किसी भी रस्ते पे चलने मेंना परखो ज़िन्दगी को हर समय अपनी कसौटी पेवरना रह जाओगे तुम तो यहाँ केवल सम्भलने में आज भी ढल गया सूरज राह तकते हुए दिन भरतूने तो रात कर डाली है मधुकर घर से निकलने में शिशिर मधुकर

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

4 Comments

  1. Rajeev Gupta Rajeev Gupta 29/08/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 31/08/2018
  2. C.M. Sharma C.M. Sharma 31/08/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 31/08/2018

Leave a Reply