मेरे जीवन साथी – डी के निवातिया

परिणय बंधन कि वर्षगाँठ पर अर्धांगिनी को समर्पित मेरे ह्रदय के भाव

***

मेरे जीवन साथी, मेरे मनमीत हो तुममेरे जीवन पथ का, मधुर संगीत हो तुमतुम से बना मेरा, घर-संसार सलोनातुम से महके घर-आँगन कोना-कोनामहकती फुलवारी से सज़ा अर्चना-गीत हो तुममेरा वर्तमान, मेरा भविष्य, और अतीत हो तुमसंग ऐसे ही तुम रहना, सुख-दुःख जो भी पड़े सहनातुम बिन मै अधूरा, जैसे बिन कलम है कागज़ सूनाकैसे लिख पाऊँगा तुम बिन, जीवन का यह मधुर गीतशब्द ,लय, सुर-ताल से भरा मेरा साहित्य गीत हो तुम !!मेरा साहित्य गीत हो तुम, मेरा साहित्य गीत हो तुम !!मेरे जीवन साथी, मेरे मनमीत हो तुममेरे जीवन पथ का, मधुर संगीत हो तुम !!

!

डी के निवातिया

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

16 Comments

  1. Dr Swati Gupta 03/07/2018
    • डी. के. निवातिया 04/07/2018
  2. Bhawana Kumari 03/07/2018
    • डी. के. निवातिया 04/07/2018
  3. Shishir "Madhukar" 04/07/2018
    • डी. के. निवातिया 04/07/2018
  4. kiran kapur gulati 04/07/2018
    • डी. के. निवातिया 04/07/2018
  5. C.M. Sharma 04/07/2018
    • डी. के. निवातिया 04/07/2018
  6. C.M. Sharma 04/07/2018
    • डी. के. निवातिया 04/07/2018
  7. Bindeshwar Prasad sharma 04/07/2018
    • डी. के. निवातिया 04/07/2018
  8. Onika Setia 14/07/2018
    • डी. के. निवातिया 14/07/2018

Leave a Reply