कहाँ है हमारा संविधान

शीर्षक–कहाँ है हमारा संविधानदेखिये भाईयो और बहनों हम सब भारतवासी ही हैसबसे बड़ा लोकतंत्र है हमाराक़ानून की किताब भी है भैयाअरे वही जिसे हम संविधान कहते हैअरे वही जो गीता और कुरान से बढ़ कर हैबाबासाहेब ने लिखा था बड़े ज्ञानी विद्वान् आदमी थेमैं ठहरा देहात का आम आदमीकुछ समझ में नहीं आता मुझेक्या लिखा है इसमेंइसके होने से क्या होता हैजब कोई अनपढ़ या वो टाइप वाला आदमीनेता बन जाता है देश कातो सोचता हूँ क्या यही है संविधानजब कोई फिल्म अभिनेता या कोई बड़ी हस्तीकिसी जानवर को मार देजानवर छोडिये अलबत्ता कोई आम आदमी को ही मार देतो फिर कहाँ छिप जाता हमारा संविधानसच मानियेदिल से कहता हूँजब किसी हिन्दू को मुसलमान से नफरत होती हैजब किसी उच्च वर्ग को निम्न वर्ग को हिकारते देखता हूँदिल बैठ सा जाता हैऔर सोचता हूँ कैसा है हमारा संविधान और कहाँ है हमारा संविधानक्या अमीरों के शीश महल मेंया फिर नेताओ के सफ़ेद कमीज के जेब मेंआखिर में एक बात और कहता हूँआप भी कभी सोचियेगाकैसा हो अपना हिंदुस्तानकैसा हो अपना संविधानजिसमे बच्चियों के बलात्कार के बादहम सिर्फ मोमबत्ती जलायेपुलिस थाने कोर्ट कचहरी के चक्कर मेंअपनी उम्र बीतायेंक्या न्याय खरीदे या खुद बिक जायेंअपने बच्चो को क्या हिन्दू मुस्लिम के दंगे में उलझाएँकहीं मंदिर तोड़े जाए या मस्जिद कुर्बान हो जाएआप सबसे पूछता हूँ फिरकहाँ है अपना संविधान जरा ढूंढे और पता लगाये —-द्वारा रचित अभिषेक राजहंस ” जय भारत जय भारती”

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

4 Comments

  1. Madhu tiwari Madhu tiwari 17/04/2018
  2. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 18/04/2018
  3. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 19/04/2018
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 20/04/2018

Leave a Reply