अब वे हैं कि जो मेरी राहों पे… Raquim Ali

अब वे हैं कि… कभी हम, उनका बहुत इंतजार किया करते थेअब वे हैं कि जो मेरा शिद्दत से इंतजार करते हैं;कभी हम उन की राहों को बेजार तका करते थेअब वे हैं कि जो मेरी राहों पे पैनी नज़र रखते हैं।अलसुबह, जब मैं दरवाजे से निकल जाता हूँपेड़ की झुरमुटों में, वे खुश होकर चहचहाते हैं;दाना-पानी रख कर, जैसे ही थोड़ा हट जाता हूँएक-एक कर या झुण्ड बना कर वे आ जाते हैं।वैसे तो सब बुलबुल, गौरैया भी बहुत मुझे भाती हैंसोनचिरैया, कबूतर, फ़ाख्ता सभी बहार लाती हैं;मुझको इंतज़ार मगर दिलकश मैने का रहा करता हैबहुत खुश हो जाता हूँ मैं जब वे फुर्ती से आ जाती हैं।An Humble Appeal:1. ‘दो मिट्टी की परई (प्याली) लाइएएक में अनाज के दाने रखिएदूसरे में पानी रखिएथोड़े दिन इंतजार करिएफिर रोज सुबह’लाइव बर्ड शो’ देखिए।’2. ‘Save Birds in this Summer’ …आर. ए. bsnlआजमगढ़: शिब्ली नेशनल कॉलेज ‘ये मधुर एहसास मेरे’ पुस्तक का विमोचन https://hindi.dynamitenews.com/story/azamgarh-ye-madhur-ehsas-mere-book-released – Shared via Dynamite News(Redemption of book on 17.02.2018 pl, I express my deep gratitude to all Gunijan, specially Shri Shishir Madhukar ji who became my source of inspiration to write a book.)

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

8 Comments

  1. Madhu tiwari Madhu tiwari 21/02/2018
  2. C.M. Sharma C.M. Sharma 22/02/2018
  3. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 22/02/2018
  4. Kajalsoni 22/02/2018
  5. raquimali raquimali 22/02/2018
  6. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 22/02/2018
  7. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 23/02/2018
  8. raquimali raquimali 23/02/2018

Leave a Reply