हे भारत ! हे भारती !

शीर्षक–हे भारत! हे भारती !जहाँ शिव के जटा से निकलीगंगा की धार हैजहाँ घर-घर मेंकामधेनु का दुलार हैवीरो की वीरभूमिबलिदानों से भरी अद्भुत भारत माँ की गाथा हैतलवारो पे लगे रक्त ने चित्र उकेरे जहाँ वीरो केऐसा भारत शांति मार्ग दाता हैजहाँ यज्ञो में डाली जाती है आहुतिवीरो ने सदा रक्षा में डाली है जहाँ अपनी प्राणाहुतिजहाँ दान में अपना मांस देने वाले शिवि हुएजहाँ कर्ण ने कवच -कुंडल सहर्ष दान किएजहाँ का महाभारत विश्व का सबसे बड़ा महाकाव्य हैजहाँ देवो के अवतार हुए ऐसा भारत विश्व को योगदर्शन करता हैजहाँ सजदा करते मौलवी हैजहाँ रोजे रखते हिन्दू हैजहाँ की अलग-अलग है बोलियाँअलग अलग वेश -परिवेशजहाँ विधि है ,विधान हैजहाँ सर्वोपरि भारत का संविधान हैपूज्य है ये भारतभूमिअभिनन्दन है अभिनन्दन हैहे भारत ! हे भारती!

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

6 Comments

  1. Bindeshwar Prasad sharmaकक 27/01/2018
  2. डी. के. निवातिया 27/01/2018
  3. Kajalsoni 27/01/2018
  4. Madhu tiwari 28/01/2018
  5. Bhawana Kumari 28/01/2018
  6. C.M. Sharma 29/01/2018

Leave a Reply