आत्मा की आवाज

आत्मा की आवाज़यू ही गुजर गये कई सौ जमानेचुनौती खड़ी है सीना अपना तानेलाचार बनकर कब तक जियेंगेसहारे की कब तक प्रतीक्षा करेंगेमाँगो मत किसी से जिसको सँभालोआज अपने भीतर के देव को जगाओमाता तुम अपनी धरती को कहते होसपूत होने का दम भरते होइस पावन रिश्ते का कुछ तो सिला दोमाता को अपनी कुछ करके दिखा दोअटकते हो उलझते हो बेजान सवालों मेंहुनर को लगाते हो उलझती सी चलो मेंसमझ लो परख लो अग्नि परीक्षा लोखरा निकले एक ऐसी शिक्षा लोआगे बड़ने के लिए सुकर्म करना होगाआपस की दूरी को कम करना होगासजा लो एक सुन्दर भारत की तस्वीरखुद ही के हाथों में होती है अपनी तक़दीरकरके करिश्मा दुनिया को दिखा दोभारत को फिर से सोने की चिड़िया बना दो©मु.जुबेर हुसैन”कविराज”गोड्डा, झारखण्ड

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

12 Comments

  1. डी. के. निवातिया 16/01/2018
    • md. juber husain 16/01/2018
  2. Shishir "Madhukar" 16/01/2018
    • md. juber husain 16/01/2018
  3. Bhawana Kumari 16/01/2018
    • md. juber husain 17/01/2018
  4. Kajalsoni 16/01/2018
    • md. juber husain 17/01/2018
  5. C.M. Sharma 17/01/2018
    • md. juber husain 17/01/2018
  6. Bindeshwar prasad sharma 17/01/2018
    • md. juber husain 17/01/2018

Leave a Reply