दिवंगतों को मत बदनाम करो — डी के निवातिया

दिवंगतों को मत बदनाम करो

***

अपने पूर्वजो की गैरत कटघरे ला दीतुमने आकर मीठी बातो में !सत्तर साल की कामयाबी मिटा दीतुमने आकर के जज्बातो में !!

कौन कहता हैदेश में कोई काम नहीं हुआसत्तर सालो में क्याअपना भारत आबाद नहीं हुआ !

दिवंगतों को मत बदनाम करोअपनी झूठी शान दिखाने के लिएवक़्त के अनुकूल काम कियाभारत को पहचान दिलाने के लिए !!

कुछ काम अगर ना हुआ होतातुम यू बातो की न खा रहे होतेपहनकर सूट बूट निराले आजमखमली गद्दों पे न सो रहे होते

माना पहले रफ़्तार धीमी थीगाडी अब पटरी पर आई हैमगर ज़रा पूछो अपने बड़ो सेकितनी ज़हमते उन्होंने उठाई है !

याद करो जब देश आज़ाद हुआ थाक्या हमने खोया था क्या पाया थामिटाकर लाल अपने बेश कीमतीलहूलुहान धरा का टुकड़ा पाया था !

टूटी झोपडी, टूटी मड़ैयातन पर कपडा मुहाल थाभूखे प्यासे पूर्वज रहे हैमहामारियों से बुरा हाल था !!

लालकिले से झूठ बोलकरलोगो को आज लुभाते होगलत आकड़े बतलाकरझूठा अपना रंग जमाते हो !!

क्यों ऐसा तुम करते होक्या खुद पर रहा विश्वास नहींदल बल से लेकर धन तकबोलो क्या अब तुम्हारे पास नहीं !!

भ्रष्टाचार की बात करते होपहले खुद का घर साफ़ करोजितने भी दागी है नेताअपने दल से शुरुआत करो !!

नियत अगर साफ़ हैतो क्यों गुंडो को सहभागी बनाते होजिनको भान नहीं घर कामंत्रालय का भार उनके हाथ थमाते हो !!

जितने भी है दागी नेता,उनके खिलाफ एक कानून पास करोजो भी कोई विरोध करेपहले संसद से उसका पत्ता साफ़ करो !!

सत्तर सालो से देखते आये हैहर कोई उन्ही मुद्दों पर वोट मांगता हैनेता बनकर पांच साल तकफिर न कोई उन गाँवों में झांकता है !!

आज़ाद हुआ था देश अपनापर सत्ता आज तक गुलाम नजर आती हैजिसने पकड़ी कुर्सी एक बारफिर बाप दादाओ की जागीर बन जाती है !!

देश अगर विकास राह ले जाना चाहते होव्यवस्था में अमूल चूक परिवर्तन करोधन और सत्ता के लालच से बाहर निकलोधनपतियों की कठपुतली बनना बंद करो !!

तुम पर भरोसा जताकरजनता ने गद्दी पे तुम्हे बिठाया हैफिर भी बदले में अभी तकबेचारो ने कौन नया सुख पाया है !!

हाल आज भी वही पुराना,गाँव गाँव, गली गली में दिखता हैहत्या, बलात्कार, गुंडागर्दीअस्मित, ईमान चौराहो पर बिकता है !!

राजन नारी रक्षा की कसम खाता हैमंत्री और संतान भक्षक बन मजाक उडाते है !क्यों नहीं अंकुश लगता उन परहिम्मत कर क्यों दो-चार को नहीं शूली चढ़ाते है !!

सूखा हो या बाढ़ का मुद्दासाल दर साल बेचारी जनता सहती हैमजदूर किसान या हो जवानक्यों किस्मत इनसे सदा खफा रहती है !!

नौकरशाही, अफसर शाहीकेवल जनता पर ही क्यों पड़ती भारी हैगौरखपुर हो या खतौलीदिन महीने साल त्रासदी से जनता हारी है !!

जनता वही है देश वही हैसंसद में भी वही राज घराने हैकहने को सरकार बदलतीपर नेताओ के अंदाज़ पुराने है

इरादे अगर नेक हैतो खुलकर सच्चाई बतलाना सीखोखामियों में करो सुधारअपना भरोसा जनता पर जताना सीखो

जनता तुमको चाहती हैतभी तो मतविश्वाश तुम्हारे हाथ हैअच्छा करोगे, राज़ करोगेतभी तो ये जनता तुम्हारे साथ है !!

छोडो एक दूजे पर दोषारोपनराजनीति में अब नैतिकता को अपनाओयुवा देश का खड़ा दो राहे परसत्य और सक्षमता से उनकी पहचान कराओ !!

कर जाओ तुम भी कुछ ऐसा,युगो युगो तक चलता तुम्हारा नाम रहे !नव युग के तुम प्रेरणास्रोत रहोतुम सा बन जाना हर किसी का अरमान रहे !!

जय हिन्द ! जय भारत !

***

!! डी के निवातिया !!

*** *** ***

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

30 Comments

  1. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 04/12/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 16/12/2017
      • सीमा वर्मा सीमा वर्मा 29/12/2017
        • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 29/12/2017
  2. अरुण कुमार तिवारी अरुण कुमार तिवारी 04/12/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 16/12/2017
  3. C.M. Sharma C.M. Sharma 05/12/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 16/12/2017
  4. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 05/12/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 16/12/2017
  5. Arun Kant Shukla अरुण कान्त शुक्ला 05/12/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 16/12/2017
  6. md. juber husain md. juber husain 06/12/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 16/12/2017
  7. Dushyant patel 07/12/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 16/12/2017
  8. Shishir "Madhukar" Shishir 07/12/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 16/12/2017
  9. Sudesh kardam 08/12/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 16/12/2017
  10. Siddharth singh 09/12/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 16/12/2017
  11. सीमा वर्मा सीमा वर्मा 29/12/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 29/12/2017
  12. Abhishek Rajhans 29/12/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 30/12/2017
  13. Kajalsoni 29/12/2017
    • Kajalsoni 29/12/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 30/12/2017
  14. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 30/12/2017

Leave a Reply