क्यूँ सोचूँ -प्रशान्त तिवारी

क्यूँ शांत रहा इतने दिन मैंइतना भी ऐसा विचरना क्या था ,टाल दिया होता मत कोपतझढ़ में बात बिगड़ना ही था।जो बोल रहे वो बोलेंगेक्या सोच रहे ये क्यूँ सोचूँ!जब खुद ही पार उतरना है तोघुट-घुट के फिर क्यूँ सोचूँ!अभी सफर तो शुरु हुआ हैदूर शिखर पर जाना होगा,जाने कितने व्यवधान पड़ेंगेकटु वाच्य, व्यंग को सहना होगा।उस पार मिलेगी मंजिल जबइस पार की बातें क्यूँ सोचूँ!जब खुद ही पार उतरना है तोघुट-घुट के फिर क्यूँ सोचूँ!तेरी आशाएँ मेरे मन मेंगोतें खूब लगाती हैं,दक्षिण ध्रुव पर भी उमीद कीबौछारें रह-रह आती हैं।जब तार बँधे तो सपनों कोबोझ बनाकर क्यूँ सोचूँ!जब खुद ही पार उतरना है तोघुट-घुट के फिर क्यूँ सोचूँ!आसमान में तारों के संगदिन-रात मैं उलझा रहता हूँ,विस्फोट न हो जाए कपाल मेंहर अड़चन को सहता हूँ।अपने मस्तिष्क के हर पुर्जों कोचीर-चीरकर क्यूँ सोचूँ!जब खुद ही पार उतरना है तोघुट-घुट के फिर क्यूँ सोचूँ!

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

6 Comments

  1. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 20/10/2017
    • प्रशान्त तिवारी प्रशान्त तिवारी 21/10/2017
  2. C.M. Sharma C.M. Sharma 21/10/2017
    • प्रशान्त तिवारी प्रशान्त तिवारी 21/10/2017
  3. Madhu tiwari Madhu tiwari 21/10/2017
    • प्रशान्त तिवारी प्रशान्त तिवारी 21/10/2017

Leave a Reply