बस यूं ही जगमगाते रहना

अक्सर और अधिकांश कई लोगों को रौशनी बहुत ही पसंद होती है और जब बात करे दिए कि तो वो बहुत ही सुंदर दिखती है बिल्कुल फूटरी आनंदी की शब्दो मे ! दिए की कवर फ़ोटो लगाने के दौरान दिए को देखकर एक प्रेरणा मिली कि दिया,बाती और घी य तेल से कई क्षेत्रफल में उजाला हो जाता है !! लेकिन अगर कोई बात करे दिया,बाती य घी बनने की तो कोई बनना पसन्द नही करेगा पर देखना सब पसंद करेंगे ! तारीफ सब करेंगे चाहेंगे सब ऐसा बनना पर हृदय से प्रयत्न अधिकांश नही कर पाएंगे क्योंकि उनमें अपने आप को जलाकर प्रसन्न य सुख पहुंचाने की इतनी क्षमता नही !! य भय उनकी हिम्मत तोड़ देता है ! आदि काल से लेकर वर्तमान समय तक कई देशभक्त,महान चरित्र वाले स्त्री-पुरुष,क्रांतिकारी,देवी-देवता,महात्मा,साधु-संत और तमाम सज्जन लोग जिनके कर्म से समाज का भला हुआ है उनका जीवन भी जगमगाते हुए दिप जैसा होता है ! दिखते तो है वो जगमगाते हुए,चमकते हुए पर पीड़ा जो सहते है वो वो समझ पाने की क्षमता किसी दिए में ही है !! दिए को देखकर लगता है दिया जिसके यहां भी जाता है सबके घर मे उजाला रोशन भर देता है पर अफसोस कि दिया कोई बनना नही चाहता !! दिए कि दिल की लिखूं तो आंसू आ जाये पर दिए को खुशियों के रूप में मनाने के पीछे इस बड़े प्रेरणादायक कारण को हमेशा जरूर याद रखे कि दिया अपनी नियति दूसरों के जीवन मे उजाला भरने के मकसद से बनता है ! वही उसका भाग्य है और वही उसकी महत्वता ! हममे से कई लोगों का जीवन दिए जैसा होता है जो बाहर से बहुत चमकते,जगमगाते है पर अंदर जो आग लग रही होती है वो बस दिए को पता होता है सिर्फ दिए को !!दिया जगमगा रहा है चमक रहा है इसका कारण है कि वो काफी जला है,तपा है उसके जगमगाने के कारण को जाने,चमचमाने के कारण को जाने तब दिया आपको एक गुरु की भांति आपको प्रेरणादायक सन्देश देता हुआ दिखेगा और उसको देखकर जो एकाग्रता मिलेगी उससे आपको विश्वास हो जाएगा कि सभी वस्तु-जीव मात्र एक प्रेरणास्रोत है !!शुभ दीपावली

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

3 Comments

  1. SALIM RAZA REWA SALIM RAZA REWA 18/10/2017
  2. डी. के. निवातिया Dknivatiya 19/10/2017
  3. C.M. Sharma C.M. Sharma 20/10/2017

Leave a Reply