प्रद्युम्न-श्रद्धांजलि

बड़े प्यार से स्कूल भेजा, माँ ने अपना दुलारा lनहीं जानती थी, नहीं अब वो आएगा दुबारा llबेफिक्र थी ये सोचकर वो स्कूल पहुंच चुका है lनहीं पता था स्कूल में ही साँसे छोड़ चुका है llसुनकर खबर बच्चे की माँ का कलेजा थरथराया lक्या हुआ जो दरिंदे ने उसे मौत की नींद सुलाया llमेरे लाल की आँखे न होती,ये देख तो ना पाताlमेरा लाल मुझे छोड़कर मुझसे दूर तो ना जाता llमासूम चेहरे को देखकर भी दरिंदे को दया न आई lबड़ी बेहरमी से उसकी गर्दन पर उसने छुरी चलाई llटूट गए माँ-बाप बेटे, प्रद्युम्न का शव सामने पाकर lफट गया उनका कलेजा बेटे का शव गोद में उठाकर llईश्वर करे ना ऐसा हो किसी और के बच्चे के साथ lनाम हो गयी सबकी आंखे,दी श्रद्धांजलि सबने साथllआज यही हम सब चाहते है,प्रद्युम्न को मिले न्याय lमिलेगी उसकी आत्मा को शांति, ॐ नमः शिवायll_________ 

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

12 Comments

  1. Bindeshwar prasad sharma 15/09/2017
    • Rajeev Gupta 16/09/2017
  2. Shishir "Madhukar" 15/09/2017
    • Rajeev Gupta 16/09/2017
  3. kiran kapur gulati 16/09/2017
    • Rajeev Gupta 16/09/2017
  4. C.M. Sharma 16/09/2017
    • Rajeev Gupta 16/09/2017
  5. डी. के. निवातिया 16/09/2017
    • Rajeev Gupta 16/09/2017
  6. chandramohan kisku 19/09/2017
  7. Umesh 23/07/2019

Leave a Reply