हिन्दी-दिवस पर

अंग्रेजी है मैडम उनकी, उर्दू इनकी शहजादी।हिन्दी राजकुमारी अपनी, संस्कृत सबकी परदादी।।भारतमाता के माथे की आभावत चमके बिन्दी।तन-मन जिसपर न्यौछावर हो, वह ही है अपनी हिन्दी।।चिन्तन हिन्दी, मन्थन हिन्दी,अध्ययन-अध्यापन हिन्दी।रग-रग में जो रमी हुई है-‘पान-अपान वात हिन्दी।जिसमें है ब्रह्माण्ड समाहित सद्विचार सूक्षम चिन्दी।तन-मन जिसपर न्यौछावर हो, वह ही है अपनी हिन्दी।।1।।सूर्य-चन्द्र का तेज है हिन्दी,प्रखर वायुवत् ओज है हिन्दी।मृदा-गन्ध अरु अम्बु-सुरस-शून्यान्वित ध्वनि भी है हिन्दी।मानस-गती चित्त का चिन्तन, आत्म-चेतना अनुबन्धी।तन-मन जिसपर न्यौछावर हो, वह ही है अपनी हिन्दी।।2।।दृढ़ इच्छा शक्ती है हिन्दीज्ञानशक्ति विज्ञान है हिन्दी।क्रियाशीलता सह उपयोगीआतमबल विश्वास है हिन्दी।यही साधना अनुष्ठान की फलवत मिलती रिद्धी-सिद्धी।तन-मन जिसपर न्यौछावर हो, वह ही है अपनी हिन्दी।।3।।प्रजनन, शैशव, यौवन हिन्दी,प्रौढ़, बुढ़ापा, निधन भी हिन्दी।हर पल जिसमें जन्म-मरण का‘सत्य-बोध’ करवाती हिन्दी।सुगठित संस्कारवत् उद्गम, चिदानन्द अनुभव आनन्दी।तन-मन जिसपर न्यौछावर हो, वह ही है अपनी हिन्दी।।4।।ब्रज-अवधी-बुन्देली हिन्दी,भोजपुरी-पांचाली हिन्दी।मारवाड़ि हरियाणि मैथिलीपग-पग रूप बदलती हिन्दी।यहां विविधता सुदृढ़ एकता का दर्शन नित होता फन्दी।तन-मन जिसपर न्यौछावर हो, वह ही है अपनी हिन्दी।।5।।साहित्यिक-समृद्ध है हिन्दी,संस्कृति का दर्पण हिन्दी।सामाजिक एकता बनाती‘जीवन-शैली दर्शन’ हिन्दी।जन-जन की अभिलाषा भाषा के स्वरूप में प्रगटी हिन्दी।तन-मन जिसपर न्यौछावर हो, वह ही है अपनी हिन्दी।।6।।- देवेश शास्त्री

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

5 Comments

  1. Madhu tiwari Madhu tiwari 09/09/2017
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 09/09/2017
  3. C.M. Sharma babucm 09/09/2017
  4. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 11/09/2017

Leave a Reply