देश भक्ति (आल्हा ,वीर छन्द )

आल्हा (वीर छंद)वीर वंश के हम बलिदानी,कभी न माने अपनी हार सरहद के हम सदा पुजारी, सरहद ही मेरा संसारआन मान पर मिटने वाले,हम हैं बागी वीर जुझार जब जब वैरी आँख दिखाये,मारूँ खींच उसे तलवारचढ़कर छाती वहीं मसल दूँ,जुल्म करे जो भी मक्कार आँच न हरगिज आने देंगे,चाहे बहे लहू की धारशोला बनकर कहर ढहाएं,भागे वैरी सुन ललकारओछी हरकत करने वाला,मुँह की खाये बारम्बारभुजबल से अरिमर्दन कर दूँ,तहस नहस कर युद्ध मझारताल ठोंककर आगे बढ़ता,छुपकर कभी करूँ ना वारपीठ दिखाऊँ तो मर जाऊँ,डरकर जीना है धिक्कारगर्जन से दुश्मन दल काँपे,गीदड़ कभी न पाए पारसमर बीच में गोला बरसे,चाहे हो गोली बौछारबढ़ते कदम कभी ना रुकते,लड़ जाऊँ भरके हुँकारपलक झपकते करूँ सफाया,जो करता हमसे तकरार मटियामेट करूँ मैं रण में,करूँ भस्म बनके अंगारराणा शिवा खून है रग में,करूँ विजय बस ये दरकार मर्दानी झांसी की रानी,भरे जोश दिल में हर बार गांधी भी गौतम भी हम हैं, हम हैं वीर भगत सरदारमन में राम रहीम बसाकर,विजयी रथ पर हुआ सवार किसकी हिम्मत हमें रोक ले, किसको नहीं जान से प्यार अपनी माँ का दूध पिया तो, सुनकर आओ आज पुकार सीना ठोक अगर लड़ना हो,अबसे हो जाओ तैयार कायरता का परिचय दोगे,भीतर घुसकर करूँ शिकार नहीं मेमना हूँ मैं कोई,रणबांका हूँ सिंह जुझार भूधर को सरका दूँ पल में,दुश्मन पर कर लूँ अधिकार परबस होकर कब तक मुझसे,धूर्त करेगा छल की मार अबकी दफ़न करूँगा ऐसे,सात जन्म सोचे बदकारडॉ. छोटेलाल सिंह (प्रवक्ता)

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

12 Comments

  1. Madhu tiwari 25/08/2017
    • Dr Chhote Lal Singh 26/08/2017
  2. ANU MAHESHWARI 25/08/2017
    • Dr Chhote Lal Singh 26/08/2017
  3. Shishir "Madhukar" 26/08/2017
    • Dr Chhote Lal Singh 26/08/2017
  4. babucm 26/08/2017
    • Dr Chhote Lal Singh 26/08/2017
  5. डी. के. निवातिया 26/08/2017
    • Dr Chhote Lal Singh 26/08/2017
    • Dr Chhote Lal Singh 26/08/2017

Leave a Reply to ANU MAHESHWARI Cancel reply