मेरा जीवन पूरा तूने

 मेरा  जीवन  पूरा  तूने मेरे  पुण्य कर्म को  तूनेपापों की श्रेणी में रखकरऔर मधुरवाणी को  मेरीकटुता का ही भेद बताकर मेरा  जीवन  पूरा  तूनेदूषित रंगों में मथ डाला अब साँसें ही  मचल रही हैंतज पंखों को  उड़ जाने कोऔर नीड़  में  बैठी  श्रद्वाबस व्याकुल है कुछ पाने को पर तूने  श्रद्वा  सुमनों कोभक्ति विमुख ही कर डालामेरा   जीवन   पूरा  तूनेदूषित  रंगों में  मथ डाला तन ही  मेरा शेष बचा हैज्यों इक सीपी रेत पड़ी होऔर  लहर के  आते-जातेलुढ़क लुढ़ककर टूट पड़ी हो तूने  तो  जीवन आशा कोपलभर में खंड़ित कर डालामेरा   जीवन   पूरा  तूनेदूषित रंगों में  मथ  डाला सोचा था  तेरे  हाथों मेंपतवार  हमारी जब होगीआँधी भी नन्हीं बाला-सीतेरी  गोदी  सोती  होगी पर  तूने  तो  तूफानों  कोकुछ और भयंकर कर डालामेरा   जीवन   पूरा   तूनेदूषित  रंगों में  मथ  डाला प्राणहीन कर  मेरे मन कोअंतः से  ही झकझोर दियासूखी डाली-सा कर मुझकोईंधन बनने बस छोड़ दिया और धधकती चिता सजाकरनष्ट देह को भी कर डालामेरा   जीवन   पूरा   तूनेदूषित  रंगों में  मथ  डाला फिर भी हूँ मैं अस्थि-कलश-साकुछ  फूलों से  सजा  हुआ हूँऔर  समर्पण  चाह  लिये बसतेरे  चरणों   पड़ा   हुआ हूँ उठा सके तू दया भाव सेसब वैसा मैंने  कर डालामेरा  जीवन   पूरा  तूनेदूषित रंगों में  मथ डाला                       … भूपेन्द्र कुमार दवे00000

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

6 Comments

  1. chandramohan kisku 31/07/2017
  2. Bindeshwar Prasad sharma 31/07/2017
  3. kiran kapur gulati 01/08/2017
  4. babucm 01/08/2017
  5. Shishir "Madhukar" 01/08/2017
  6. डी. के. निवातिया 01/08/2017

Leave a Reply