गिरगिट और इंसान

पल में अक्सर बदल जाता है मौसम lपल में अक्सर बदल जाता है इंसान llयू ही बदनाम है गिरगिट रंग बदलने मे lरंग तो अक्सर बदलता है , ये इंसान llजो दिखता है,  वो वैसा होता नही lजो होता है ,  वो हमे दिखता नही llमन में क्या छुपा हैं,ये हमे पता नही lजो सोचे वैसा हो,ये ज़रूरी तो नही llपल में माशा और पल में तोला lपल में सब कुछ बदल जाता हैं llमानते हो जिसको दिल से अपना lकभी-कभी वो भी बदल जाता हैं llबदलना हैं तो आपनी सोच बदलो lअच्छी सोच तुम्हे आगे ले जायेगी llतुमको तो उससे खुशी मिलेगी ही lदुसरो को भी वो खुशी दे पायेगी ll___________________राजीव गुप्ता

15 Comments

  1. babucm 31/07/2017
    • Rajeev Gupta 31/07/2017
  2. kiran kapur gulati 31/07/2017
    • Rajeev Gupta 31/07/2017
  3. Shishir "Madhukar" 31/07/2017
    • Rajeev Gupta 31/07/2017
  4. ANU MAHESHWARI 31/07/2017
    • Rajeev Gupta 31/07/2017
  5. डी. के. निवातिया 31/07/2017
    • Rajeev Gupta 31/07/2017
  6. madhu tiwari 31/07/2017
    • Rajeev Gupta 31/07/2017
  7. Bindeshwar Prasad sharma 31/07/2017
    • Rajeev Gupta 01/08/2017

Leave a Reply