प्रतीक्षा…सी.एम्. शर्मा (बब्बू)….

आखिर क्यूँ तुम मुझको तलाशते रहते हो…….बदहवास से इधर उधर भटकते रहते हो…..जीए होते निस्वार्थ प्यार में तुम एक पल भी….कह उठते खुद कि तुम मेरे साथ रहते हो….पाना न पाना ज़िन्दगी में चलता रहता है…गम का तो कभी ख़ुशी का दौर रहता है…जो तटस्थ है हर मौसम में मेरी तरह से…कहाँ उसको जहां में कोई मार सकता है…..हर रूह में रहता हूँ हर आँख से दीखता हूँ मैं….हर शै में तस्वीर बन पल पल उभरता हूँ मैं….फिर भी तुम देख नहीं पाते हो मुझे स्वार्थवश…अंतर्मन में देख तेरी ही तो प्रतीक्षा में खड़ा हूँ मैं…\/सी.एम्. शर्मा (बब्बू)

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

16 Comments

  1. Shishir "Madhukar" 25/07/2017
    • babucm 26/07/2017
  2. anjali yadavs 25/07/2017
    • babucm 26/07/2017
  3. डी. के. निवातिया 25/07/2017
    • babucm 26/07/2017
  4. Bindeshwar Prasad sharma 26/07/2017
    • babucm 27/07/2017
  5. shivdutt 26/07/2017
    • babucm 27/07/2017
  6. Anderyas 26/07/2017
    • babucm 27/07/2017
  7. arun kumar jha 26/07/2017
    • babucm 27/07/2017
  8. ANU MAHESHWARI 31/07/2017
    • babucm 01/08/2017

Leave a Reply