एक नजर — डी के निवातिया

***एक नजर *** बुझती नहीं प्यास साकी अब सिर्फ जाम से दिल झूमने लगता है सूरज ढलते ही शाम से फकत एक नजर जी भर के देख लेने दो …

गीत- सावन ने ली है अंगड़ाई -शकुंतला तरार

 गीत “सावन ने ली है अंगड़ाई” छम-छम-छम-छम स्नेह झर रहे सावन ने ली है अंगडाई, बादल के गजरे गुंथवाकर प्यासी धरती हरषाई || 1-अलकों में पलकों की छाया सांझ …

रक्षा बंधन पे, दे दें यह उपहार, – अनु महेश्वरी

कोन तय करेगा हद क्या है, मेरे, चलने की, खाने की, बोलने की, हँसने की, घूमने की, कपड़ो की, मैं या मेरे अपने या यह समाज, क्यों हम इतना …

हाइकु – बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा बिन्दु

1 भ्रमित मन कलयुग की माया झूठ का सया 2 राधा – मोहन दो तन एक जान कृपानिधान 3 मानुष तन अनमोल रतन लालच मन 4 प्यासी अखिया साजन …

गरीबी के निशान- अरूण कुमार झा बिट्टू

हैं राहे रेत ऐ एैसा की एक निशान छपता हैं, इस गरीबी के चादर के सब आर पार दिखता हैं छुपाना चाहता हूं मैं पहन कर जो जरा महगां …

अपने अंदर का अँधियारा दूर करले – अनु महेश्वरी

कही पर भाषा की है लड़ाई, कही पर अहम् की है लड़ाई, कही पर अस्तित्त्व की है लड़ाई, कही पर बेवजह की है लड़ाई| बस चारो हो रहा है, …

विश्वास – बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा बिन्दु

”   भगवान से ज्यादा ख़ुद पर भरोसा करो यकीन मानो यह जिन्दगी बदल जाएगी. ” ********** ”   विश्वास जम गई तो और क्या जहाँ पर तुम वहीं …

रिश्ते का धाराशाही होना

सूखे पत्ते की तरह आज हर रिश्ता धीरे धीरे धाराशाही होता जा रहा है रिश्ते टूटने की खबर से बेखबर इन्सान को अपनी नौका(जीवन) के आगे हर रिश्ता बौना …

स्वार्थ की बातें – शिशिर मधुकर

जब रिश्तों में विश्वास ना हो केवल स्वार्थ की बातें हो कोई नहीं चाहता उस व्यक्ति से अक्सर मुलाकातें हों चाँद रहेगा तो इस अन्धकार में कुछ राहें तो …