Category: अज्ञात कवि

बहनों को घर से दूर न होने दो

बहनों को घर से दूर न होने दो बेटियों बहनों को घर से दूर न होने दो संपत्ति में हिस्सा कर सम्बंधों को विषाक्त मत होने दो हर अधिकार …

उलझन – अजय कुमार मल्लाह

मैं तो लड़खड़ाता हूँ तु चलता चाल में होगा, नहीं मालूम है मुझको तु किस हाल में होगा। सपने जागती आँखों से देखने की आदत है, सोचता हूँ कि …

वो मुझमें रहती है – अजय कुमार मल्लाह

कल ख़्वाब में मिली मुझसे तो कह रही थी वो, मेरी कुछ हरकतों से आजकल नाराज़ रहती है। मेरा यूं भीगना बरसात में अच्छा नहीं लगता, उसकी तबियत कई …

वह – ~~’ आलोक पाण्डेय`

वह हर दिन आता सोचता बडबडाता,घबडाता कभी मस्त होकर प्रफुल्लता, कोमलता से सुमधुर गाता… न भूख से ही आकुल न ही दुःख से व्याकुल महान वैचारक धैर्य का परिचायक …

मै गुनहगार हो गया हूँ – अजय कुमार मल्लाह

समझ के खिलौना तोड़ा दिल, अब मै बेकार हो गया हूँ, सज़ा मोहब्बत की मिल रही है, मै गुनहगार हो गया हूँ।, हर सितम शौक से सहने को, मै …

तेरी याद में – अजय कुमार मल्लाह

हक़ीक़त से अलग होती है ख़्वाबों की दुनिया, मैं हर ख़्वाब में तुझसे मुलाक़ातें करता हूँ। मेरे सब दोस्त कहते हैं मैं हो गया हूँ पागल, जब आजकल तेरी …

गौरैया दिवस पर मेरी रचना ” गौरैया रानी ” पढ़कर विलुप्त होती गौरैया को पुनः सहेजने मे साथ दे । आप सभी गुणी जनों से मैं करबद्ध प्रार्थना करती …

तुझे पाने की ख़ातिर – अजय कुमार मल्लाह

तुझे खोकर अरमां दफन करना नहीं आया, तेरी खातिर सब रिश्तों से बगावत कर ली। सितारों की भीड़ मे था चाँद को चुना मैंने, पूरे वादे कर दिए और …

देखो एक सच्चा इंसान मिल गया अब जाकर देश को सही प्रधान मिल गया

 देखो एक सच्चा इंसान मिल गया अब जाकर देश को सही प्रधान मिल गया जो बैठे रहते थे चुपचाप आवाज उठाने वाला राम मिल गया भ्रष्टाचार का अब अंत …

‘मेरी बेटी’ – कविकृशिव

मेरी  बेटी  मुझसे  है  कहती,   काश  मैं  एक  तितली  होती रंग  बिरंगे  पंखो  के  संग,    मैं  भी   घर  से  निकली  होती फूलो  पर  इठलाती  इतराती,   पत्तो  पर  से  फिसली  …

तेरा नाम लिख दिया है – अजय कुमार मल्लाह

जहालत नहीं साबित की लिखकर कभी मीनारों पे, अक्सर मिटा देती हैं लहरें लिखे हुए नाम किनारों पे, मेरी नज़र में इससे महफूज जगह नहीं है “करुणा”, तेरा नाम …

साईकिल नहीं चली

भौजी तेरा वजन बढ़ा गया बढ़ा गया वजन भैया का साथ बैठे साईकिल पर निकली हवा सर सर का होगा अब तेरा भौजी का होगा अब भैया का टायर उनने बदली …