मुखप्रष्ठ » ‘सूरदास
  • मन माने की बात - सूरदास
  • मन न भए दस-बीस - सूरदास
  • चोरि माखन खात - सूरदास
  • मैया मोहि दाऊ बहुत खिझायौ। - सूरदास
  • कबहुं बढैगी चोटी - सूरदास
  • मैया! मैं नहिं माखन खायो। - सूरदास
  • मुख दधि लेप किए - सूरदास

  • रचनाकार का परिचय

    • सूरदास

    Surdas Poems in Hindi
    सूरदास का जन्म १४७८ ईस्वी में रुनकता नामक गांव में हुआ।
    सूरदास की मृत्यु गोवर्धन के निकट पारसौली ग्राम में १५८० ईस्वी में हुई
    सूरदास जी द्वारा लिखित पाँच ग्रन्थ बताए जाते हैं –
    १ सूरसागर – जो सूरदास की प्रसिद्ध रचना है। जिसमें सवा लाख पद संग्रहित थे। किंतु अब सात-आठ हजार पद ही मिलते हैं।
    २ सूरसारावली
    ३ साहित्य-लहरी – जिसमें उनके कूट पद संकलित हैं।
    ४ नल-दमयन्ती
    ५ ब्याहलो

    Powered By Indic IME