Category: पूनम श्रीवास्तव

निराला-बचपन

बचपन तो होता है निराला निश्छल, निर्मल,मस्ती वाला दुनिया से उसको क्या मतलब वो तो खुद ही भोला- भाला । मां की गोदी में लोरी सुन कर वह तो …

माँ तेरी याद में……।

           माँ तेरी कोख से जनम लिया             इससे बड़ा कोई वरदान नहीं             तेरे दिल से निकले आशीर्वचन             मुझसे बड़ा धनवान नही             …

मां

मां सिर्फ़ शब्द नहीं पूरी दुनिया पूरा संसार है मां अंतरिक्ष के इस पार से उस पार तक का अंतहीन विस्तार है मां। मां सिर्फ़ शब्द नहीं——————–। शिशु की …

निराला-बचपन

बचपन तो होता है निराला निश्छल, निर्मल,मस्ती वाला दुनिया से उसको क्या मतलब वो तो खुद ही भोला- भाला । मां की गोदी में लोरी सुन कर वह तो …

एक लोरी

एक लोरी  लाडली ओ लाडली सो जा मेरी लाडली देर न कर निंदिया रानी सोने चली मेरी लाडली। लाडली…………………। मां पापा की लाडली बहना की तू सखी भली भइया …