Category: शिवानी इंद्रा तिवारी

सूरज उगने के संग ही

सूरज उगने के संग ही, आसमां में खो जाती है, प्यारी-सी आवाज सुनाकर, खुश बहुत वो करती है , प्यारी-सी चिड़िया मेरी, मन को बहुत लुभाती है। नन्हें-नन्हें पंखों …