Category: पल्लवी गौड़

ज़िन्दगी ! गर्त में कभी तो कभी उफान पे

ज़िन्दगी ! गर्त में कभी तो कभी उफान पे.. धुंदली सी कभी तो कभी रोशनी सी। फीकी सी कभी तो कभी चाशनी सी ढूंडते रहते हैं खुद को ज़िन्दगी …