Category: ओनिका सेतिया ‘अनु’

मुझे भारत कह कर पुकारो ना …..( कविता)

मुझे भारत कह कर पुकारो ना …..( कविता) मत पुकारो मुझे तुम India, मुझे मेरे नाम से पुकारो न , निहित है जिसमें प्यार व् अपनापन , मुझे भारत …

( पर्यावरण सरंक्षण का सन्देश देती रचना ) ) गुल मायूस है …….. ग़ज़ल

( पर्यावरण सरंक्षण का सन्देश देती रचना ) ) गुल मायूस है …….. ग़ज़ल बाग़ में एक गुल को मायूस देखकर , हाल उसका पूछा पास उसके बैठकर , …

तुमने सोचा है कभी ……. (कविता)

तुमने सोचा है कभी ……. (कविता) हे मानव ! तुमने सोचा है कभी , तुम पूर्णत: हो नारी पर निर्भर . जन्म से मृत्यु तक तुम्हारे जीवन- सञ्चालन में …

कुछ अनसुलझे प्रश्न……… (कविता)

कुछ अनसुलझे प्रश्न……… (कविता) जब मात्र-सतात्मक है समस्त सृष्टि , धरती है माता ,प्रकृति है माता , गंगा मईया व् समस्त नदियाँ , वोह भी हैं अपनी मातायें, गौ …

कुछ अनसुलझे प्रश्न……… (कविता)

कुछ अनसुलझे प्रश्न……… (कविता) जब मात्र-सतात्मक है समस्त सृष्टि , धरती है माता ,प्रकृति है माता , गंगा मईया व् समस्त नदियाँ , वोह भी हैं अपनी मातायें, गौ …

एक पत्र ईश्वर के नाम (कविता)

एक पत्र ईश्वर के नाम (कविता) हे प्रभु !कहो तुम्हारा क्या हाल है , तुम कहाँ हो ? हम हो रहे बेहाल हैं. कहो तुम्हारे बैकुंठ का मौसम है …

बधाई हो ,बेटी हुई है …. (कविता)

” बेटी बचाओ ,बेटी पढाओ ” अभियान हेतु विशेष बधाई हो ,बेटी हुई है …. (कविता) उत्सव भरा दिन हुआ आज , गाओ सब मिलकर मंगल गान। । जिसकी …