Category: काजल निषाद

कल नक़ाब उतर जाये उनका , जो आज हम दम हो रहे है….

अरे संभालो यारों !  हंसी ज़िन्दगी के दिन कम हो रहे है , बेशकीमती लम्हे ख़ुशी से तब्दील हो कर ग़म हो रहे है.. काजल भरी आँखों  में नूर था कभी,  …

कौन ख़ूबसूरत मैं या वो ? ……

मुझे ख़ूबसूरत कहेने वाले  मुझे रास्ता उसके दिल में उतरने का बता..  हर कोशिश की हमने , तेरी कसम  शायद तेरी बात माने वो,  तू उसको जा के बता.. हर …

एक बार जो की मुहब्बत मैंने, अब दुबारा नहीं होती….

अब सपनों में नहीं खोती, और बैचेन हो कर नहीं सोती,  सच कहूँ तो एक बार जो की मुहब्बत मैंने,  अब दुबारा नहीं होती….  वो तितली सा उड़ना और …

तुझ सी वो बात कहाँ से लाऊं मैं…..

तुझ सा कोई दिखे , ये तो मैं मानूं ,   पर तुझ सी वो बात कहाँ से लाऊं मैं.. तेरा बोलना,बैठना,बतियाना,चलना  होगी ये सारी अदाएँ किसी ओर में …

आईना सामने और दिखती नहीं हूँ मैं…..

यहाँ होकर भी , यहाँ नहीं हूँ मैं, आईना सामने और दिखती नहीं हूँ मैं.. मुस्कुरा के हालात-ए-ग़म सहेती हूँ यारो, अब चिलाती चीखती नहीं हूँ मैं.. यही सोच …

तुम ठहेरे बेवफ़ा, मैं पागल दीवानी……

नासमझ हूँ, ना समझ पाऊँगी तुम्हे, तुम ठहेरे बेवफ़ा, मैं पागल दीवानी क्या समझ पाऊँगी तुम्हे.. कोशिश ही करती हूँ रोज़ ख़ुद को बदलने की , बख़ूबी जानती हूँ …

दुआ ख़ुदा की , मैं खैरातों का सहारा..

तू चाँद सी चांदनी,  मैं टुटा एक तारा.. तू दुआ ख़ुदा की ,  मैं खैरातों का सहारा.. आरज़ू हमें भी है तुझे पाने की… पर तू लैला सी शहज़ादी, …

आज sms नहीं, तुम्हे एक ख़त लिखूँ ,…..

सोचा आज sms नहीं,  तुम्हे एक ख़त लिखूँ , आज का love नहीं,  वही पुरानी उलफ़त लिखूँ ,  दूँ ढ़ेर सारी दुआएँ और,  माँ दें तुम्हे भरकत लिखूँ , यहाँ …