Category: भावना तिवारी

जीवन-साथी

मेरे जीवन साथी मैं तुम्हें स्वेक्षा से नमन करती हूँ !! सकुची-सकुची आई थी घर आँगन में तुम्हारे लोगों ने बताया था यही है ससुराल उधड़ेगी की खाल उठेंगे …