Category: आस्था नवल

बसंत

मोर की आवाज़ सुनाई देने लगी है कोयल भी धीरे धीरे बौर आए आम के वृक्ष पर आने लगी है शहतूत का पेड़ पहले जैसा फिर से नए पत्तों …