Category: आरज़ू लखनवी

हुस्ने-सीरत पर नज़र कर, हुस्ने-सूरत को न देख

हुस्ने-सीरत पर नज़र कर, हुस्ने-सूरत को न देख। आदमी है नाम का गर ख़ू नहीं इन्सान की॥ ध्यान आता है कि टूटा था, ग़लमफ़हमी में अहद। यादगार इक है …

हिम्मते-कोताह से दिल तंगेज़िन्दाँ बन गया

हिम्मते-कोताह से दिल तंगेज़िन्दाँ बन गया। वर्ना था घर से सिवा इस घर का हर गोशा वसीअ़॥ छोड़ दे दो गज़ ज़मीं, है दफ़्न जिसमें इक गरीब। है तेरी …

हर दाने पै इक क़तरा, हर क़तरे पै इक दाना

हर दाने पै इक क़तरा, हर क़तरे पै इक दाना। इस हाथ में सुमरन है, उस हाथ में पैमाना॥ कुछ तंगियेज़िन्दाँ से दिलतंग नहीं वहशी। फिरता है निगाहों में, …

हमारा ज़िक्र जो ज़ालिम की अंजुमन में नहीं

हमारा ज़िक्र जो ज़ालिम को अंजुमन में नही। जभी तो दर्द का पहलू किसी सुख़न में नहीं॥ शहीदे-नाज़ की महशर में दे गवाही कौन? कोई लहू का भी धब्बा …

सरूरे-शब का नहीं, सुबह का ख़ुमार हूँ मैं

सरूरे-शब का नहीं, सुबह का ख़ुमार हूँ मैं। निकल चुकी है जो गुलशन से वो बहार हूँ मैं॥ करम पै तेरे नज़र की तो ढै गया वह गरूर। बढ़ा …

सबब बग़ैर था हर जब्र क़ाबिले-इलज़ाम

सबब बग़ैर था हर जब्र क़ाबिले इल्ज़ाम। बहाना ढूंढ लिया, देके अख्तियार मुझे॥ किया है आग लगाने को बन्द दरवाज़ा। कि होंट सी के बनाया है राज़दार मुझे॥

रहते न तुम अलग-थलग हम न गुज़रते आप से

हते न तुम अलग-थलग हम न गुज़रते आप से। चुपके से कहनेवाली बात कहनी पड़ी पुकार के॥ पूछी थी छेड़कर जो बात, कहने न दी वो बात भी। तुमने …

मुझे रहने को वो मिला है घर कि जो आफ़तों की है रहगुज़र

मुझे रहने को वो मिला है घर कि जो आफ़तों की है रहगुज़र। तुम्हें ख़ाकसारों की क्या खबर, कभी नीचे उतरे हो बाम से? जो तेरे अमल का चराग़ …

यह मेरी तौबानतीजा है बुख़लेसाक़ी का

यह मेरी तौबा नतीजा है बुखले-साक़ी का। ज़रा-सी पी के कोई मुँह ख़राब क्या करता? यही थी ज़ीस्त की लज़्ज़त यही थी इश्क़ की शान। शिकायते-तपिशो-इज़्तराब क्या करता॥ मुझे …

मुझ ग़मज़दा के पास से सब रो के उठे हैं

मुझ ग़मज़दा के पास से सब रो के उठे हैं। हाँ आप इक ऐसे हैं कि ख़ूश होके उठे हैं॥ मुँह उठके तो सब धोते हैं ऐ दीदये-खूंबाज़। बिस्तर …

महमाँनवाज़, वादिये-गुरबत की ख़ाक थी

महमाँनवाज़, वादिये-गु़रबत की ख़ाक थी। लाशा किसी ग़रीब का उरियाँ नहीं रहा॥ आँसू बना जबीं का अरक़ ज़ब्ते-अश्क़ से। बदला भी ग़म ने भेस तो पिन्हाँ नहीं रहा॥ ज़बाँ …

फिर ‘आरज़ू’ को दर से उठा, पहले यह बता

फिर ‘आरजू’ को दर से उठा, पहले यह बता। आखिर ग़रीब जाये कहाँ और कहाँ रहे॥ — — — था शौके़दीद ताब-ए-आदाबे-बज़्मेनाज़। यानी बचा-बचा के नज़र देखते रहे॥ अहले-क़फ़स …

पलक झपकी कि मंज़र ख़त्म था बर्के-तजल्ली का

पलक झपकी कि मंज़र खत्म था बर्क़े-तजल्ली का। ज़ता सी न्यामतेदीद, उसका भी यूँ रायगाँ जाना॥ समझ ले शमा से ऐ हमनशीं! आदाबे-ग़मख्वारी। ज़बाँ कटवानेवाले का है, मन्सब राज़दाँ …

नैरंगियाँ चमन की तिलिस्मे-फ़रेब हैं

नैरंगियाँ चमन की तिलिस्मे-फ़रेब हैं। उस जा भटक रहा हूँ जहाँ आशियाँ न था॥ पाबंदियों ने खोल दी आँखें तो समझे हम। आकर क़फ़स में बस गए थे आशियाँ …

नालाँ ख़ुद अपने दिल से हूँ दरबाँ को क्या कहूँ

नालाँ ख़ुद अपने दिल से हूँ दरबाँ को क्या कहूँ। जैसे बिठाया गया है, कोई पाँव तोड़ के॥ क्या जाने टपके आँख से किस वक़्त खू़नेदिल। आँसू गिरा रहा …

नादाँ की दोस्ती में जी का ज़रर न जाना

नादाँ की दोस्ती में जी का ज़रर न जाना। इक काम कर तो बैठे, और हाय कर न जाना॥ नादानियाँ हज़ारों, दानाई इक यही है। दुनिया को कुछ न …

न यह कहो “तेरी तक़दीर का हूँ मै मालिक”

न यह कहो “तेरी तक़दीर का हूँ मैं मालिक। बनो जो चाहो ख़ुदा के लिए, ख़ुदा न बनो॥ अगर है जुर्मे-मुहब्बत तो ख़ैर यूँ ही सही। मगर तुम्हीं कहीं …

दो घड़ी को दे दे कोई अपनी आँखों की जो नींद

दो घडी़ को दे-दे कोई अपनी आँखों की जो नींद। पाँव फैला दूँ गली में तेरी सोने के लिए॥ मिट भी सकती थी कहीं, बेरोये छाती की जलन। आग …

दिल का जिस शख़्स के पता पाया

दिल का जिस शख़्स के पता पाया। उसको आफ़त में मुब्तला पाया॥ नफ़ा अपना हो कुच तो दो नुक़सान। मुझको दुनिया से खो के क्या पाया॥ बेकसी में भी …

तुम हो कि एक तर्ज़े-सितम पर नहीं क़रार

तुम हो कि एक तर्ज़े-सितम पर नहीं क़रार। हम हैं कि पायेबन्द हरेक इम्तहाँ के हैं॥ हों सर्फ़ तीलियों में क़फ़स के तो ख़ौफ़ है। तिनके जो मेरे उजड़े …

जो मेरी सरगुज़िश्त सुनते हैं

जो मेरी सरगुज़िश्त सुनते हैं। सर को दो-दो पहर यह धुनते हैं॥ कै़द में माजरा-ए-तनहाई। आप कहते हैं, आप सुनते हैं॥ झूठे वादों का भी यकीन आ जाये। कुछ …

जो दर्द मिटते मिटते भी मुझको मिटा गया

जो दर्द मिटने-मिटते भी मुझको मिटा गया। क्या उसका पूछना कि कहाँ था कहाँ न था॥ अब तक चारासाज़िये-चश्मेकरम है याद। फाहा वहाँ लगाते थे, चरका जहाँ न था॥

जो कोई हद हो मुअ़य्यन तो शौक़, शौक़ नहीं

जो कोई हद हो मुअ़य्यन तो शौक़, शौक़ नहीं। वो कमयाब है जो कमयाब हो न सका॥ बुरी सरिश्त न बदली जगह बदलने से। चमन में आके भी काँटा …