Category: अर्चना जे

तनहाई

आँखे मुंदती हूँ तो कोई ना दिखे आँखे खोलती हूँ तो परछाई ना दिखे यह कैसी तनहाई है मेरे अपने ना दिखे आँखे नम है पर आंसू न पोछते …

माँ

माँ तुम कितनी प्यारी | कहने को तो मैं हूँ छवी तुम्हारी | तुम बिन मैं कितनी अधूरी तुम मे है सारी दुनिया मेरी खोजूं हर पल बाहें तेरी …