Category: योगेन्द्र टिक्कू

बाक़ी हैं कितनी दीवारें

बाकी हैं कितनी दीवारें कब टूटेंगी ये दीवारें सरहद की दीवारें तो फिर दिख जाती हैं दीवारों सी ना दिखे दिलों के बीच खिचीं ऊंची बदरंगी दीवारें,!! काले गोरे …