Category: सूर्यकान्त त्रिपाठी ‘निराला’

बुँदेलखण्ड:कवि सूर्यकान्त त्रिपाठी निराला की रचना

भारत के नभ के प्रभापूर्य शीतलाच्छाय सांस्कृतिक सूर्य अस्तमित आज रे-तमस्तूर्य दिङ्मण्डल; उर के आसन पर शिरस्त्राण शासन करते हैं मुसलमान; है ऊर्मिल जल, निश्चलत्प्राण पर शतदल। शत-शत …