Category: सुरेश जादव

सुरेश के दोहे

सुरेश के दोहे ************* प्यार मुहब्बत सच यहाँ, झूठा लव जिहाद। नफरत फ़ैलाने लोगो ने, शब्द किया ईजाद।। * जाति धर्म के भेद को, गढ़ता है इन्सान। नानक ईसा …

मेरे मुक्तक

तू अगर है तो वज़ूद, दिखाता क्यों नही । मासूमों को हैवानो से, बचाता क्यों नही । दुष्कर्म कर पेड़ों पर, लटका देते है जो । ऐसे दरिंदो को …