Category: सुशील कुमार शर्मा

आशुतोषी माँ नर्मदा

आशुतोषी माँ नर्मदा (एक भक्त की क्षमा याचना ) सुशील शर्मा आशुतोषी माँ नर्मदा अभय का वरदान दो। शमित हो सब पाप मेरे ऐसा अंतर्ज्ञान दो। विषम अंतर्दाह की …

उस पार का जीवन

उस पार का जीवन सुशील कुमार शर्मा मृत्यु के उस पार क्या है एक और जीवन आधार। या घटाटोप अन्धकार। तीव्र आत्म प्रकाश। या क्षुब्द अमित प्यास। शरीर से …

मत रोना

मत रोना सुशील शर्मा मत रोना क्योंकि तुम्हे छोड़ दिया मैंने साथ कुछ कम ही था कुछ और जोड़ दिया तुमने। मत रोना क्योंकि नंदू जल्दी बड़ा होगा मत …

किसान चिंतित है

किसान चिंतित है सुशील शर्मा किसान चिंतित है फसल की प्यास से । किसान चिंतित है टूटते दरकते विश्वास से। किसान चिंतित है पसीने से तर बतर शरीरों से। …

क्या मै लिख सकूँगा

क्या मै लिख सकूँगा सुशील शर्मा कल एक पेड़ से मुलाकात हो गई। चलते चलते आँखों में कुछ बात हो गई। बोला पेड़ लिखते हो संवेदनाओं को। उकेरते हो …