Category: सौरभ राय ‘भगीरथ’

चिड़ियाघर

एक रोज़ चिड़ियाघर में मचा बवाल कुछ जानवरों ने किया हड़ताल, कहा- करो हमें स्वतंत्र निकाल फेंका चिड़ियाघर के सभी अफसरों को संस्थापित किया लोकतंत्र | मतदान हुआ चिड़ियाघर …

चप्पल से लिपटी चाहतें

चाहता हूँ एक पुरानी डायरी कविता लिखने के लिए एक कोरा काग़ज़ चित्र बनाने के लिए एक शांत कोना पृथ्वी का गुनगुनाने के लिए | चाहता हूँ नीली – …

भारतवर्ष

वो किस राह का भटका पथिक है ? मेगस्थिनिस बन बैठा है चन्द्रगुप्त के दरबार में लिखता चुटकुले दैनिक अखबार में | सिन्कदर नहीं रहा नहीं रहा विश्वविजयी बनने …