Category: रोशन सोनी

उजड़ी-उजड़ी दिल की बस्ती

उजड़ी-उजड़ी दिल की बस्ती, उजड़ा-उजड़ा तन तरूवर है, इश्क़ तपस में बिता जीवन, इश्क़ संगीति जीना दुःभर है | नवल-नवल से शौख़ सिले में, हार-हार तन गया सँवर है, …

मुक्तक-3

जब जब मेरी राहों में कोई किरण, तेरे साये का सेहरा बांधती है ना जाने क्यों? ये बावरे से बादल सूरज के पहरेदार हो जाते हैं || मुकम्मल इश्क़ …

मेरी भांजी, मेरी ख़ुशी –पहला जन्मदिन मुबारक हो

“””””””” मेरी भांजी, मेरी ख़ुशी –पहला जन्मदिन मुबारक हो “””””””” नटखट, नटखट चंचल सी पहेली हर रोज़ नई करती अठखेली | ख़ूब सुहानी, ख़ूब सयानी रचती हर हरकत में …

“””””” SONG – तेरा गम मेरा गम “”””””

“””””” SONG – तेरा गम मेरा गम “””””” इश्क़ ख़ामोश सा, तेरे-मेरे दरमियां फ़ासले हैं ज़रा, थोड़ी हैं ख़ामोशियाँ | तनहा प्यार की, राहों पे हूँ मैं खड़ा उलझे …

“”” आदम, “आदम का गलीचा “”’

“””””””””” आदम, “आदम का गलीचा “”'”””””””” नैन खुले थे जब मेरे,, सोचा दुनियां मैं भी देखूँ देखूं यौवन-उपवन जग की,, सुन लूँ कोयल की कू-कू | सुना खूब दुनियां …

“””””तन के किरायेदार””””

“”””””””तन के किरायेदार””””” उधारी ख़ुशी की, तलाशें ज़िन्दगी निगाहें समेटें, एक आस अनकही | तन के किरदार का, ये जीवन किरायेदार मोम सी पिघलती, हर साँस कर्ज़दार | मोह-मोह …

यातना ख़ुशी की, चीख़ मुस्कराहट की

.”””””” यातना ख़ुशी की, चीख़ मुस्कराहट की””””””’ उस दिन उस घर में काफी उत्साह का माहौल था.लगता था जैसे खुशियाँ नन्हे -नन्हे क़दमों से मुस्कराहट से बाँझ पड़े उस …

MUKTAK-2

……………….MUKTAK……………. (1) नज़्म नज़र कुछ कहती है, साँसें खण्डर हो ढहतीं हैं | घुटते तन में क्यों पिंजर बंद, यादें तेरी बस रहती हैं || (2) नज़राना नाराज़ी का, …

“””””””” महफ़िल हो या हो मयखाना “”””””””

“””””””” महफ़िल हो या हो मयखाना “””””””” दास्ताँ है कुछ अंजानो की, जिनको ये जग ना पहचाना | मिटती हस्ती, फिर भी रंगत में, महफ़िल हो या हो मयखाना …

“””””””हिंदी का बेटा ज़िंदा है “”””””””

“””””””हिंदी का बेटा ज़िंदा है “””””””” ऐ हिंदी से मुख फेरने वाले, इज़्ज़त खोने से डरने वाले अपना के विदेशी कंठ लंगोट, कहते हो हिंदी, गले का फंदा है …

मैं क्या करूँ उसकी-तारीफ़”””””””””

मैं क्या करूँ उसकी-तारीफ़””””””””” पूछो ना मूझसे तुम यारों, की वो कितनी सुंदर है अदब, सादगी और अदा की, चंचल परिपूर्ण सरोवर है | उलफत है ये बतला पाना, …