Category: रौशन कुमार सुमन​

बेकरार

बेकरार, जिगर के पार छलनी करे, तेरा इन्तजार । रस की फुहार​ बाहों का हार​ जीवन में लाये खुशियाँ हजार ॥ दूरी पहाड़ तेरा इन्तजार​, इक पल लगे सदियाँ …

दिवाली

ये दिवाली, वो दिवाली घर में खुशियाँ, लाये दिवाली ! बम चकरी, और फूलझरी सब से ये, बजवाये दिवाली !1! सबको पास, बुलाये दिवाली अपनों को, मिलवाये दिवाली ! …

सीख लिया

सीख लिया, सीख लिया; आखिर मैंने सीख लिया. अपना ग़म भुला के मैंने, आँसू छुपाना सीख लिया…! जबसे तुमको देखा है, खुद को भूलाना सीख लिया. हाँ ये सच …

मेरा पैगाम​…

तेरा वो,मुड़ के ना देखना; हैरान करता है…!!! तेरा वो,हर बात में ना कहना; परेशान करता है…!!! तेरा वो,मुझे बार बार रोकना; बेताब करता है…!!! तेरा वो,हर बात में …

माँ-बाप

एक औरत के प्यार में तूमने, माँ-बाप को भुला दिया; क्या ये सच है? तूमने, अपने आप को भुला दिया…!!! अपनी नींद गवाँ के उसने, आखिर तुमको सुला दिया; …