Category: रवि यादव

नमो नमो है देश में – रवि यादव

दोस्तों,हाल के परिपेक्ष में कुछ पंक्तिया लिखी हैं जो आपके बीच रखता हूँ। अपना समर्थन दीजिएगा। ************************************** नमो नमो है देश में,विदेश में, गांव की चौपाटी से लेकर,परदेश में। …

दोस्त होते बेमिसाल

दोस्त होते बेमिसाल, करते मदद हर हाल, भाई जैसा रिश्ता अपना, कभी कभी बहना जपना, खाने का डिब्बा एक, खानेवाले अनेक, मनमुटाव कभी लड़ाई, कर लेते कभी बढ़ाई, एग्जाम …

बढ़े चलो

ये मसाले है,मसल के इनको तुम चलो, ये ज़लज़ले है,जला के इनको तुम चलो। ये हवा उड़ी है,उड़ाने को तुम्हें, ये लहर चली है,हिलाने को तुम्हें। सके ना कोई …

बिकाऊ मीडिया

कुछ लोग यहां घाटी में,सिर्फ नफरत फ़ैलाने जाते हैं, पत्रकारिता के नामपर,आतंकियों को मरहम लगाने जाते है। कुछ तो यहां, आतंकी की तुलना भगत सिंह से कर जाते है, …

कैराना से हिंदू पलायन

कैराना के हिन्दू भागे,कोई गम नही,हिन्दू ही तो है, UPSC रैंकर को घर नहीं मिला,हाय मची ही तो है। बहुसंख्यक है हम तो क्या हुआ,दर्द नही होता? अल्पसंख्यक होते …

दिल्ली का ताज

मसीहा मानकर ,दिल्ली का ताज दिया, भ्रष्टाचार मिटेगा,मेहनत का इनाम दिया। लेकिन फ्री-फ्री में डूब गए, डरती है नारी, बिजली पानी सुरक्षा,अकाल पड़ा है भारी। डिग्री का बवाल,हमारी समझ …

काउंटर बंद

लाइन में खड़ा रहा भूखा प्यासा, बैंक में काम करवाना नही आसां। घंटों इंतज़ार करना, बेइंतहा सब्र करना। आखिर ख़त्म हुआ मेरा इंतजार, बारी आ ही गई करके इंतजार। …