Category: राम दुलारे सिंह सुजान

।।गजल।।मौत का मार निकला।।

।।गजल।।मौत का मारा।। हर वह शक्श जो भी बेशहारा निकला ।। ।। कोई गम में डूबा कोई वक्त का मारा निकला ।। 1।। वजह कुछ भी रही हो पर …