Category: राजू निश्क्रिय

‘हाले दिल’

“जाने किस बात का रंज हर पल रहता है, चैन मिलता नही’ दिल मे’ खलल रहता है, जाने क्या बात है जो दिल मे’ फंसी रहती है, बडा बेरूखा सा हाले दिल रहता है…..

“बस यु ही”

मेरा ख्याल उसके दिल से गुजर गया होगा, नशा ए इश्क अब तो उतर गया होगा, मेरा हाल दरीदा है तो होने दे, शायद उसका हाल तो सँवर गया होगा…. मोहब्बत में कभी बुरी नियत रखी नहीं जाती, जिसे चाहते हैं उसे तकलीफ दी नही जाती, जिससे प्यार करते हैं उससे कोई उम्मीद नहीं रखते, शर्तो पे कभी मोह्ब्बत की नहीं जाती…..