Category: रजनीश शर्मा ‘राज’

तोड़ा है सिर्फ एक तारा अभी, अभी तो लूटना ये आसमान बाकी है,

तोड़ा है सिर्फ एक तारा अभी, अभी तो लूटना ये आसमान बाकी है, देखे है चन्द ही नज़ारे अभी, अभी तो सारा ये जहान बाकी है, हिला के रख …

मुझे एक शाम सिंदूरी दे दो ……

मैंने कई बार चाहा की तुमसे कहूँ मुझे एक शाम सिंदूरी दे दो ……! मैं थक चूका हूँ, टुकडो में जीते हुए, मुझे एक जिंदगी पूरी दे दो ….! …

सच्चे प्यार का अब, फ़साना नहीं रहा,

सच्चे प्यार का अब, फ़साना नहीं रहा, शमा में जल जाये, वो परवाना नहीं रहा, शायरी रूह तक पहुंचे, तो कैसे पहुंचे ? अब मीर और ग़ालिब का जमाना …

दिल में गम लबों पर मुस्कान रखतें है, भीड़ में अपनी अलग पहचान रखते है,

दिल में गम लबों पर मुस्कान रखतें है, भीड़ में अपनी अलग पहचान रखते है, फकीरों के ठाठ हमने अपना लिए, पैरों में जमीं सर पर आसमान रखते है, …

ज़िन्दगी जीने का कभी कभी यह राज़ भी होता है,

ज़िन्दगी जीने का कभी कभी यह राज़ भी होता है, एक ख्वाब टूटने के बाद ही दूसरा कोई ख्वाब होता है ! हो सके तो मेरी तरह भी जीकर …