Category: राज कुमार गुप्ता

हमको कुछ नही कहना जुबाँ बंद है हमारा

हमको कुछ नही कहना जुबाँ बंद है हमारा मँझधार में है नइया , है भगवान का सहारा । गोरों से आजाद हो गये पर न गयी गुलामी हमने खुद …

तुम्हारे वास्ते बस प्यार था………गजल-3

तुम तो अदावत को हवा देते रहे बरसों तलक मेरे दिल तो तुम्हारे वास्ते बस प्यार था । तुम ही रफ्ता रफ्ता दूर मुझसे हो गये मुझको भला कब …

मंत्री जी जनता के बीच फिर वोट माँगने निकल पड़े……… व्यंग्य

लेकर नेता साथ बीस पच्चीस मंत्री जी पहुँचे जनता के बीच । हाथ जोड़कर बोले भाई वोट मुझी को देना मैं आप सबका सेवक हूँ मुझको भुला न देना …

बिगाड़ देती है………गजल-2

ज्यादा लाड बच्चों की आदत बिगाड़ देती है । दुषित हवा लोगों की सेहत बिगाड देती है ।। जो जीवन में भटक जाते हैं इतने बुरे भी नही होते …

दास्तान -ऐ- दिल – 1

मुस्कुराना तेरा आँसुओं को छुपाकर चले जाते हैं जब तब मुझको रूलाकर । इतना प्यार करते हैं आँसू भी तुमसे तभी तो छलकते हैं इठला इठला कर ।। हर …

आर्तनाद

हे युवक सुनो मेरा विचार यह जग अशांति से बेसुमार । चहुँदिश दिखते लहलहे वृक्ष पर हरियाली नही लेशमात्र । वैसे तो सभी निकटवर्ती किंतु कौन विश्वासपात्र ।। आये …