Category: प्रदीप मिश्र

सत्संग

विनम्रता और प्रेम मनुष्य का आभूषण है सुनते ही मैं विनम्र हो गया विनम्रता ने दिया शोषित होने का सुख प्रेम में सराबोर होते ही धोखा खाने के अनुभव …

नक्षत्र में बदल गया बूढ़ा कवि

(एक) नहीं रहा अब जल गयी उसकी चिता पंचतत्व में लीन हो गया बहुत बड़ा कवि था जन कवि उसके काव्यलोक में समायी हुई है, पृथ्वी वह खुद भी …

कारीगर

(कवि चंद्रकांत देवताले के लिए) इतिहास की किताब की तरह पुराना और ठोस चेहरा चेहरे पर बड़ी-बड़ी आँखें इतनी बड़ी कि उनमें घूमती हुई पृथ्वी साफ दिखाई दे पसलियों …

डूबते हुए हरसूद पर पाँच प्रतिक्रियाएँ

(दुनियाभर के विस्थापितों को याद करते हुए।) (एक) – घर जब भी कोई जाता लम्बी यात्रा पर घर उदास रहता उसके लौटने तक जब भी उठती घर से बेटियों …

ईश्वरी सत्ता पर शोध पत्र

पैदा हुआ हिन्दू जाति में इसलिए मेरी आस्था में सबसे पहले ईश्वर को स्थापित किया गया सर्वशक्तिमान है ईश्वर ईश्वर की ईच्छा के विरूध कुछ भी संभव नहीं है …

काठ की आलमारी में किताबें

(एक) एक काठ की आलमारी में बहुत सारी किताबें हैं किताबों में बहुत सारे पन्ने पन्नों पर वाक्यों का मुहल्ला मुहल्ले में अनन्त विचार विचारों में भावों का समुन्द्र …

ऐसा कैसे होता है

हम भी बच्चे तुम भी बच्चे क्या हममें तुममें भेद भेद बहुत है हममें तुममें सुन्दर कपड़े , अच्छा खाना बढ़िया सा स्कूल पढ़ लिखकर तुम आगे बढ़ते हम …

सभ्यता के अन्तिम दिनों में

उनके पास कमजोर नसों की सूची होती है उनकी ही भाषा में सारे धर्मग्रन्थों का अनुवाद होता है विचारों के जीवाश्मों को खोद-खोदकर वे अपने लिए खोह बनाते हैं …

मेरे समय का फलसफा

इकट्ठे हुए थे सारे जीव एक जगह फुनगी पर बैठी चिड़िया / गर्वोन्नत शेर रेत में अलसाया मगरमच्छ इधर-उधर रेंगते कीड़े-मकोड़े हरी कालीन जैसी बिछी घास और टीले पर …

नई शताब्दी

एक बार फिर किसी आकाशीय पिंड के हृदय में सृजन की ऊष्मा इतनी तीव्रता से उफने कि फटकर बिखर जाय वह पूरे अंतरिक्ष में जिस तरह से किसान बिखेरता …

नदी जैसी धार

हँसना चाहता हूँ इतनी जोर की हँसी चाहिए जिसकी बाढ़ में बह जाए अन्दर की सारी कुण्ठाएं रोना चाहता हूँ इतनी करुणा चाहिए कि आँसुओं की नमी से खेत …

एक जनवरी की आधी रात को

एक ने जूठन फेंकने से पहले केक के बचे हुए टुकड़े को सम्भालकर रख लिया किनारे दूसरा जो दारू के गिलास धो रहा था खंगाल का पहला पानी अलग …

दे रहा हूँ शुभकामनाएँ

बच्चों की मुस्कान को किसान के खलिहान को औरतों के आसमान को चिड़ियों की उड़ान को दे रहा हूँ शुभकामनाएँ देश के विधान को संसद के ईमान को जीवन …

अंगूठाभर हैं नन्हे मियाँ

भय से थरथराती हुई आँखों में कई रात गुजारने के बाद बारूद में भुने हुए बच्चों के हाथ-पांव समेट रहे हैं गुजरात के नन्हे मियाँ पिछली चार पीढ़ियों से …

लिखता हूँ प्रेम

सूरज की नन्हीं किरणें उतर आयीं हैं चेहरों पर दरारों से आती हवा फेफड़ों में ताकत की तरह भर रही है   खेतों की तरफ जा रहे हैं किसान त्यौहारों की तैयारी कर रहा है गाँव कारखानों से चू रहा है पसीना चूल्हों को इतमिनान है अगले दिन की रोटी का टहलकर घर लौट रहे हैं पिताजी   सुबह की चाय के साथ अखबार बेहतर दिनों के स्वाद की तरह लग रहा है कलम के आस-पास जुटे हुए हैं अक्षर प्रेम कविता के लिए आग्रह कर रहे है   लिखता हूँ प्रेम और खत्म हो जाती है स्याही।  

कुछ नहीं होने की तरह

हाड़तोड़ मेहनतकर जब पस्त हो लौटते घर मिलतीं एकदम हँसती–बिहँसती उतर जाती सारी थकान   परोसतीं गर्म–गर्म रोटियाँ और चुट की भर नमक इस नमक के साथ उनका प्रेम …

करोगी तुम प्यार

पेड़ पौधों से करोगी तुम प्यार वे विफल कर देंगे प्रदूषण का षडयन्त्र   घर से करोगी तुम प्यार भूलकर अपने सारे दुःख खुश हाल हो जाएगा घर   …