Category: पंकज दीक्षित

कहीं मेरी उम्मीदें बेमानी तो नहीं

कहीं मेरी उम्मीदें बेमानी तो नहीं जो सबसे चाहता हूँ मिल नहीं पाता जो तुमसे चाहता हूँ खिल नहीं पाता अक्सर लौटता हूँ नाउम्मीदी लिए कहीं इसके भी कोई …

गरिमा

गरिमा बांध दीजिये गरिमामय परिधानों से फैसलों से नीतियों से सम्मान और संस्कारों से एक अदना सा शख्स भी फिर जी पायेगा अपनी क्षमताओं को गुंजाईश नहीं रहेगी कमज़ोरियों …

महामहिम

महामहिम वो शख्स जो महामहिम है बड़ा है निर्णायक है सब की निगाह है जिसपर कि तटस्थ रहेगा हर परिस्थिति में हर परीक्षा में निर्णायक रहेगा उसका हर फैसला …

मलेशिया में

बादलों के बीच दुनिया के खुबसूरत चेहरों के साथ मस्ती के शानदार साधनों का जमघट सपनों का सच कायनात की कशिश जिंदगी से हसीन लम्हों के ळम्स, मोहब्बत की …