Category: ओमेन्द्र शुक्ला

जल रहा हैं हिन्दुस्तान

“आरक्षण की आग मे जल रहा हैं हिन्दुस्तान”, शिक्षा नौकरी पाने को बिक रहे हैं कई मकान, ठोकरे मिलती हैं यहा मिलता नही हैं ग्यान…. “आरक्षण की आग मे …

||आरक्षण की राजनीती ||

“छाती पीट जो चिल्लाते है आरक्षण की मांग सुनाते है दम नहीं काबिलियत में जिनके वो शुद्र गंवार कहलाते है , रखते भरोसा जो खुद के हुनर पे वो …

||वीर हिन्द के वासी ||

“हम वीर हिन्द के वासी है हमसे ना टकराना तुम हो जाओगे खण्ड-खण्ड प्रतिखण्ड हमसे ना टकराना तुम, क्या भूल गए उस सागर को एक घूंट में पी डाला …

||सत्ता के स्वार्थी |हाइकू ||

“पैसठ साल बर्बादी भारत की सुध ना आई , गरीब लोग अर्धनग्न शरीर जलता पेट , मिटे गरीब ना गरीबी है मिटी सत्ता लोलुप , हुआ है दुःख सत्ता …

||गणतंत्र और गँवारतंत्र ||

“गणतंत्र बन गया गँवारतंत्र अब कुछ लोगो के कुंठित विचारों से सच्चाई कर रही मुजरा कोठे पे अंधे कानून के उन राहों पे , हो गया बहुत ही बड़ा …

||बदहाल किसान |हाइकू ||

“पालनहार होता विमुख आज अधिकारों से , लुटते इन्हे प्रकृति और नेता बिखरे आंसू , पेट की आग खत्म होती उम्मीदे जलता पेट , प्रगति चर्चा ना सुहाए आखों …

||संघर्षो भरा जीवन ||

“भाग उठा होके परेशान जीवन के झंझावातों से दर्द बहुत है इस जीवन में हर पल चुभते है काँटों से , छोटी बातें,अधूरी यादें सब छूट यहाँ पे जाते …

||खतरे में हिंदी का अस्तित्व ||

“क्या मै कल लुप्त कहीं हो जाउंगी या दफ़न किताबों में हो जाउंगी देख शान अंग्रेजी का हिंदी फिर आज शरमायी है , परिचालन देख तेजी से युवाओं में …

||एक जवान की व्यथा ||

सम्बोधन में शहीदों ने अपने कुछ इतर शब्द मांगे है आज ना कहना मुझको देशभक्त कुछ ऐसा सन्देश सुनाया है आज , जब गद्दार देशभक्त हो जाते है और …

||मायाजाल देशद्रोह का ||हाइकू |

“रचा है आज कुछ माया का जाल ये गद्दारो ने | किया भ्रमित पुनः देशभक्ति को लगाके बैर | खोंपा खंजर सीने में भारत के हसते लोग | आतंकी …

||ना पैदा होगा अब कोई गद्दार ||

“होंगे पैदा जितने गद्दार हर एक को चुन चुन मारेंगे काटेंगे हर गर्दन उसकी जो भारत को दुत्कारेंगे , हर घर में मातम छाएगा जिस घर से अफजल आएगा …

||भारत बनाम पाकिस्तान ||

“चलो सखी रे पाकिस्तान खूबसूरत है उसका संसार ना गंध वहाँ पे देशद्रोह की है सुन्दर बहुत उसके विचार , प्रशंसा करने पे भारतीय खिलाडियों की वहाँ देशद्रोही उसे …

||आस्तीन के सांप ||

“क्यूँ पाकिस्तान से लड़ते हो क्यूँ आतंकी उसे कहते हो पालते है गद्दारों को स्वयं तुम और बदनाम पाकिस्तान को करते हो , आतंक का अड्डा है पाकिस्तान जो …

||एक विद्यार्थी का माँ को सन्देश ||

“माँ नहीं पढ़ना है मुझको अब ना विद्यालय मै जाऊंगा अनपढ़ रहना है अच्छा ना गाली तुझे मै दिलाऊंगा, पढ़-लिखके लोग जहाँ पे अपने ही देश को गाली देते …