Category: ओमप्रकाश यती

दिल में सौ दर्द पाले बहन-बेटियाँ

कोई  कैसे  संभाले  बहन-बेटियां दिल में सौ दर्द पाले बहन-बेटियां घर  में  बांटें उजाले बहन-बेटियां कामना  एक मन में सहेजे हुए जा रही हैं शिवाले बहन-बेटियां ऐसी बातें कि …

नज़र में आज तक मेरी कोई तुझसा नहीं निकला

  नज़र में आज तक मेरी कोई तुझसा नहीं निकला तेरे चेहरे   के  अन्दर  दूसरा  चेहरा   नहीं निकला कहीं  मैं  डूबने  से बच न    जाऊँ, सोचकर ऐसा मेरे नज़दीक …