Category: निशान्त पन्त ‘निशु’

तथाकथित असहिष्णुता – व्यंग्य

राजनीति से प्रेरित होकर असहिष्णुता को मुद्दा बनाकर पुरुस्कार वापस करने वाले तथाकथित लेखकों, साहित्यकारों, नेताओं, अभिनेताओं व अन्य पर एक व्यंग्यात्मक कविता प्रस्तुत कर रहा हूँ संभवतः मेरी …

हिंदी – राष्ट्र भाषा

देश का मान है हिंदी। देश का सम्मान है हिंदी। देश की शान है हिंदी। देश की पहचान है हिंदी। हर दिल की जान है हिंदी। शब्दों की पहचान …

शायरी 1

शायरी:- 1. दिल में है जुस्तजू सिर्फ तुझे पाने की, ना फिक्र है मुझे इस जालिम ज़माने की। ज़माने ने मोहब्बत को सबकी नकारा है, पर मेरा दिल इस …

तूफ़ान

ताहिर ने ताहिरी बना दी। शायर ने शायरी बना दी। आशिक़ ने आशिकी बना दी। बेवफा ने बेवफाई बना दी। कमबख्त हम ही नाकारा थे उस जालिम की नज़रों …

पर कश्मीर को हासिल करना, औकात नहीं है ‘पाक’ की।

धरती के इस पाक स्वर्ग पर, नापाक नजर है पाक की। पर कश्मीर को हासिल करना, औकात नहीं है ‘पाक’ की। चाहे कितने षड़यंत्र रचा लें, इन पाक परस्तों …

तलाश

जिंदगी की तलाश में, गुज़रते हैं दिन मेरे। तलाश है कि पूरी होती नहीं। समय सीमा समाप्त होती नहीं। ह्रदय की वेदना कम होती नहीं। कब ज्ञान होगा जीवन …

ख्वाब

शायर नहीं हूँ मैं लेकिन, शायरी लिखने का ख्वाब रखता हूँ। आशिक नहीं हूँ मैं लेकिन, आशिकी करने का ख्वाब रखता हूँ। दीवाना नहीं हूँ मैं लेकिन, दिल्लगी करने …

मूक दर्शक

कोई मस्ताना कहता है, कोई परवाना कहता है। मेरे दिल की गहराई में झांको, तेरा चेहरा झलकता है। तू मुझसे चली गयी है दूर, मेरे दिल को अखरता है। …

बनावटी दुनिया

पक्षियों का कलरव, पानी की कलकल, फूलों की सुगंध, सब कुछ खो गया कंकरीट के जंगल में। मशीनी मानव, इंसान रुपी दानव, अबलाओं की चीखें, मानवता का ह्रास, इस …

बलात्कारी

जब शहर में दिन ढल जाये, बलात्कारी घर से निकल आयें। जब भी कोई अकेली लड़की नज़र आये, वो उस पर अपनी गिद्ध सी नज़र गढ़ाए। लड़की नज़र बचाए, …

भ्रस्टाचार की डगर पर

भ्रस्टाचार की डगर पर, बच्चो दिखाओ चलके ये देश है तुम्हारा, नेता तुम्ही हो कल के। दुनिया को रंज देना, और उल्टा सीधा कहना किसी को कुछ न समझना, …

चलो फिर से वर्तमान में आ जायें।

हर तरफ गरीबी है, हर तरफ बेबसी है. हर तरफ लाचारी है, हर तरफ बेकारी है. मासूम जनता की, बस यही एक बीमारी है. देश में हाहाकार है, हर …

चुनावी मौसम

चुनावी मौसम चल रहा है। देश पूरा जल रहा है। हर तरफ महंगाई की मार है, भ्रष्टाचारियों से जनता परेशान है। चुनावी मौसम में नेता जनता से मिलने आते …

जीवन के पहलु

जीवन के पहलु अनेक अदभुद एवं विस्मयकारी समझ सका ना कोई इसको किये परंतु जतन अनेक। एक समय लगता सब स्थिर दूजे पल होता गतिमान ये जीवन का कड़ा …

सर्वश्रेष्ठ है मानव जीवन

जीवन चक्र यह दुनिया का, जो आया है वो जायेगा। माटी की मूरत है इन्सान, एक दिन माटी में मिल जायेगा। घर-मकान और ये धन-दौलत, सब पीछे ही रह …