Category: नलिन विलोचन शर्मा

पिकासो की चित्रकला

जटिलतम चित्र-कला सीख ली जा सकती है, सिर्फ़ अभ्यास ज़रूरी है। तुम्हारी बेढंगी रेखाओं को सीखना क्या! वे सीखी नहीं जातीं। (दुर्वह ऊब में बर्बाद किया मेरा हर काग़ज़ …

अली अकबर खाँ

सरोद पर तुमने था बजाया, मैं समझा नहीं। मैंने देखा, पीतल और लोहे से तुमने मधु निचोड़ा : सारा कड़वापन दूर हो गया, मधु विदुंत होकर बँट गया।

अलि-विलासि-संलाप

कलिका में संदेहित पुष्प ढूंढा। नहीं पाने पर उसका प्राण-रस पी लिया। –(अलि) xxx   मैंने कल्पित सुगंध सूंघ कर उसे बटन-छिद्रित किया। अब परिमृदित पड़ी है। –(विलासी) xxx …

अणु-बम

अधुना हमारे पास विशाल योजनाएँ हैं– शीतापंत्रित प्रशालाएँ हैं, जहाँ आविष्कारों के बदले दर्शन और शायरी है, भारतीय संस्कृति और बुशर्ट है, अनन्त उपसमितियाँ हैं, और पैसों को पानी …

धारा-लेखन

सत्तावन की हवा-गाड़ी लक्ष्य तक पहुँच कर रह गई। दो-चार वर्षों में दो मुँह होंगे या दो पूँछ, एक मुँह और एक पूँछ नहीं होगी, जैसा आज भी कुछ-कुछ …