Category: मोतीलाल

इस दुनिया के अलग-अलग चेहरे

यह दुनिया बिल्कुल नहीं चलती एक सत्य की छत के नीचे। यह दुनिया बिल्कुल नहीं चलती अहिंसा के रास्तों पर। यह दुनिया बिल्कुल नहीं महकती एक प्रेम की छाँव …

हृदय-पुष्प

तुम अनगिनत चुम्बनों से भिंगो देते हो मेरे पोर-पोर अनिंध्य देह को. तुम मेरे सुघड़ स्तनों को जब मुँह घुसाये चूसते हो तब भूल जाते हो मेरे ह्रदय की …