Category: मनोज कुमार

जिससे था हमें प्यार ……………चला गया |गीत| “मनोज कुमार”

जिससे था हमें प्यार वो साजन चला गया हम रहते थे जिसके दीवाने चला गया हुई मुद्दतों अब तक जिसका पता नही हमें छोड़ अकेला तन्हा करके चला गया …

गुजरे वक्त की याद…………………रुलाती है |गीत| “मनोज कुमार”

गुजरे वक्त की याद याद आती है | चुपसा रहता है दिल वो रुलाती है || जबसे छीनी है प्यार की दौलत | बनके हम तो फ़क़ीर बैठे है …

कब तक छुपाओगे ये प्यार ………….भी नही |गीत| “मनोज कुमार”

कब तक छुपाओगे ये प्यार प्यार बिना कुछ भी नही | कुछ तो करो तुम शरारत शरारत बिना कुछ भी नही || तेरे लाल लाल रचे हुए हाथ हाथ …

मुझे रंग दे तू …………………डाल के |गीत | “मनोज कुमार”

मुझे रंग दे तू रंग दे ओ लाल क हर्बल गुलाल डाल के……………………………..२ तुझे रंग दूँ में रंग दूँ ओ लाल क हर्बल गुलाल डाल के……………………………..२ आओ नफरत को …

मैंने अपनी रचना “जीवन का आधार है बेटी” प्रतियोगिता में प्रकाशित की है | यदि आपको मेरी रचना पसंद आये , तो अपना अमूल्य वोट देने की कृपा करें | मैं उसके लिए आपका आभारी रहूँगा

link………. जीवन का आधार है बेटी नामक शीर्षक से प्रकाशित मेरे द्वारा रचित रचना http://sahityapedia.com प्रतियोगिता में शामिल है |अतः आपसे अनुरोध है | यदि आपको मेरी रचना पसंद …

तेरे सब गम चुरा लेंगे…………….. भी बुला लेंगे |गीत| “मनोज कुमार”

तेरे सब गम चुरा लेंगे तेरे सब दर्द मिटा देंगे छाया तेरा नशा दिल पे तेरे सब कर्ज मिटा देंगे माना ये दौर है मुश्किल ख़ुशी फिर भी चुरा …

गोरे- गोरे गाल…………. तेरा होना पास मेरे |गीत| “मनोज कुमार”

गोरे- गोरे गाल तेरे सिल्की- सिल्की बाल तेरे देता है प्यारा अहसास इनका होना पास मेरे जन्म जन्म साथ मेरे रग रग में वास मेरे देता है मस्ती उल्लास …

अगर दिल महोब्बत में…………….. नही होता |गीत| “मनोज कुमार”

अगर दिल महोब्बत में डूबा ना होता रोता ना दिल दिलबर झूठा ना होता करता ना भूल ना जुदा तुमसे होता ना थे नसीब में एतबार नही होता अगर …

अगर पास आके……….आजमा लेते |गीत| “मनोज कुमार”

अगर पास आके मुस्करा देते मिट जाते शिकवे आजमा लेते दिल की कहानी थोड़ा कह देते तेरे ही तो हैं आजमा लेते अगर पास…………………………………….. आजमा लेते तन्हाई दूर सारी …

महोब्बत कर लेते …………………….. गर तुम भी |गीत| “मनोज कुमार”

महोब्बत कर लेते हम भी, साथ गर दे जाते तुम भी जीत लेते हम तो दुनिया, साथ में होते गर तुम भी महोब्बत कर लेते ………………………………………. गर तुम भी …

तुमसे मिलता…… संसार सनम |गीत| “मनोज कुमार”

तुमसे मिलता है अपनापन तुमसे महके मेरा घर आँगन तुमसे ही हैं जज्बात सनम तुम साँस मेरी संसार सनम तुमसे मिलता……………………… संसार सनम अंजाम मेरा मेरी भोर हो तुम …

दिल आ गया जिसपे……….|गीत| “मनोज कुमार”

दिल आ गया जिसपे वो है मासूम सा चेहरा बड़ा शर्मीला है वो तो खिला है फूल सा चेहरा तरन्नुम सी आवाजें हैं मगर खामोश है चेहरा नही कोई …

खाबों में तुम हो……….|गीत| “मनोज कुमार”

खाबों में तुम हो जवाबों में तुम हो ख्यालों में तुम हो सवालों में तुम हो जब भी मैं देखूँ बहारों में तुम हो खाबों में तुम हो………………………………………….. मिट …

टूट गयी अपनी ……….|गीत| “मनोज कुमार”

टूट गयी अपनी पुरानी महोब्बत रूठ गयी अपनी दीवानी महोब्बत मनाया भी हमने ना मानी महोब्बत दिल का भी हाल ना जानी महोब्बत टूट गयी अपनी………………………….. जानी महोब्बत क्या …

राम नाम इक नाम..………………|भजन| “मनोज कुमार”

राम नाम इक नाम है ऐसा तुमको पार लगायेगा यही नाम है ऐसा इक दिन भला तेरा कर जायेगा साथ तुम्हारे जायेगा भला तेरा कर जायेगा राम नाम इक …

बार बार दिखता जो……………….|भजन| “मनोज कुमार”

बार बार दिखता जो मन्दिर ओ प्यारा ऐसा सुन्दर तीरथ अयोध्या हमारा बार बार…………………………….. अयोध्या हमारा त्रिभुवन के राम मेरे मन का आराम है जब भी जहाँ देखूँ घट …

जीवन का आधार है बेटी………… “मनोज कुमार”

जीवन का आधार है बेटी सुख शक्ति संसार है बेटी बदल देती जो दुनिया को ऐसा एक बदलाव है बेटी अत्याचार करो नही इनपे दुर्गा की अवतार है बेटी …

भोले तेरा रूप ……………..|भजन| “मनोज कुमार”

भोले तेरा रूप अनूप हमको लगता है प्यारा परम् पिता परमेश्वर भोला हमको लगता है प्यारा शिव शंकर डमरूवाला लगता है बड़ा प्यारा भोले तेरा रूप ……………………………..है बड़ा प्यारा …

श्री राम प्रभु के चरणों में ………….|भजन| “मनोज कुमार”

श्री राम प्रभु के चरणों में गुणगान मैं करने आया हूँ प्रभु की भक्ति करने को मैं गीत उन्हीं के गाया हूँ श्री राम प्रभु………………………………………….के गाया हूँ सुबह शाम …

तुमसे है ये कैसा नाता …………|गीत | “मनोज कुमार”

तुमसे है ये कैसा नाता दिल को यही तो भाता है तेरे बिना हम मर जायेंगे मन को तू ही भाता है तुमसे है ये कैसा……………………………….तू ही भाता है …

देशों में ओ देश अपना …………..|गीत| “मनोज कुमार”

देशों में ओ देश अपना प्यारा हिन्द देश है अनोखी पहचान इसकी ऊँची अपनी शान है बहुरंगी संस्कृति इसकी भव्यता विशाल है मनमोहक है सुन्दरता वास्तुकला मिसाल है देशों …

नही सुने थे वो हमारी ……..|गीत| “मनोज कुमार”

नही सुने थे वो हमारी उसने भी अनसुनी की वो लौटे ने मौसम लौटा सपनों ने अनसुनी की हम भी थे खामोश मगर वो चेहरे से ही समझ गयी …